राजस्थान का पिपलांत्री गाँव जहां बेटी पैदा होने पर बजते है ढोल और लगाए जाते है 111 पौधे

वेब डेस्क

आज के इस विक्सित दौर में भी आओ को अक्सर इस तरह की खबरें देखने और पढने को मिलती होंगी की फलां जगह बेटी पैदा होने पर बहु को घर से निकाल दिया, या बेटे पैदा होने पर घर वाले बहु को यातनाएं देते हैं I यानी  बेटी के जन्म लेने से वोह खुश नहीं होते लेकिन आज हम आप को भारत के एक ऐसा गाँव के कहानी बताने जा रहे हैं जहां बेटियों को बोझ नहीं मझा जाता जहां बेटियों के जन्म पर उत्सव मनाया जाता है। यह गाँव  है, राजस्थान के राजसमंद जिले का पिपलांत्री गांव। इस गांव में अगर बेटी जन्म लेती है तो गांव के लोग खुशी के मारे ढोल ताशे बजाते हैं और 111 पौधे लगाते हैं और उनके फलने-फूलने तक पूरी तरह देखरेख करते हैं। यही वजह है कि गांव के चारों ओर हरियाली छाई हुई है। पेड़ को दीमक से बचाने के लिए इसके चारों तरफ घृतकुमारी का पौधा लगाया जाता है। ये पेड़ और घृतकुमारी के पौधे गांववालों की आजीविका के माध्यम बनते हैं।

राजस्थान का पिपलांत्री गाँव जहां बेटी पैदा होने पर बजते है ढ़ोल और लगाए जाते है 111 पौधे

इस इस अनूठी परंपरा की शुरुआत तब हुई, जब सरपंच श्यामसुंदर पालीवाल की बेटी की मृत्यु बेहद कम उम्र में हो गई। यह परंपरा 2006 मे शुरू हुई थी, जिसे प्रेम भाव से आज भी बड़े लगन से निभाया जा रहा है। अब तक लाखों पेड़ लगाए जा चुके हैं। गांव की एक और खासियत है कि पिछले सात-आठ वर्ष में पुलिस में एक भी मामला दर्ज नहीं हुआ है और इसके लिए वर्ष 2004 में पिपलांत्री ग्राम पंचायत को राष्ट्रपति पुरस्कार भी मिल चुका है।

इस अनूठी पहल से बीते दस वर्षों में इस इलाके में कई लाख पेड़ लगाए जा चुके हैं। बेटियों के प्रति स्वीकार-भाव धीरे-धीरे पर्यावरण संरक्षण के अभियान का रूप ले चुका है। वहीं, राखी के दिन बेटियां पेड़ों को राखी बांधती हैं। यह यहां रहने वाले लोगों के संकल्प और साहस की ही कहानी हैं, जिनके प्रयासों से बालिका भ्रूण हत्या और बाल विवाह के लिए चर्चित राज्य में बेटियों को जीवनदान मिला। सिर्फ यही नहीं, पेड़-पौधे के लिए तरसता एक बंजर-पथरीला इलाका हरित क्षेत्र में बदल गया। इस गांव ने बदला लड़कियों को देखने का नज़रिया।

राजस्थान का पिपलांत्री गाँव जहां बेटी पैदा होने पर बजते है ढ़ोल और लगाए जाते है 111 पौधे

वृक्षारोपण के साथ-साथ बेटी के बेहतर भविष्य के लिए गांव के लोग आपस में चंदा करके 21 हजार रुपए जमा करते हैं और 10 हजार रुपए लड़की के माता-पिता से लेते हैं। 31 हजार रुपए की यह राशि लड़की के नाम से 20 वर्ष के लिए बैंक में फिक्स कर दी जाती है। लड़की के अभिभावक को एक शपथपत्र पर हस्ताक्षर कर देना होता है कि बिटिया की समुचित शिक्षा का प्रबंध किया जाएगा। उसमें यह भी लिखना होता है कि 18 वर्ष की उम्र होने पर ही बेटी का विवाह किया जाएगा। परिवार का कोई भी व्यक्ति बालिका भ्रूण हत्या में शामिल नहीं होगा। और जन्म के बाद जो पौधे लगाए जाएंगे, उनकी देखभाल की जाएगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: