अजूबा: मरने के 5 घंटे बाद हो गया जिंदा, फिर सुनाई यमलोक की घटना

 

अलीगढ़

वह मर गया था, घर में मातम का  माहौल था, आस पड़ोस के लोग और रिश्तेदार आ चुके थे, अंतिम संस्कार की तैयारी हो रही थी, कि अचानक रामकिशन के शरीर में हरकत हुई और वह ज़िंदा हो गया. इस अजब गजब घटना में , मरने के 5 घंटे के बाद वह न केवल ज़िंदा हुआ बल्की वहां इकट्ठे लोगों को यमलोक से लौट कर आने की घटना भी सुनाई .

मरने के बाद अगर कोई आदमी जिंदा हो जाये तो यह फिल्मों या किस्से कहानियों में ही संभव है। लेकिन ऐसा हुआ उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में। यहां मरने के 5 घंटे बाद एक व्यक्ति जिंदा हो गया। घर के लोग मातम मना रहे थे और अंतिम संस्कार करने की तैयारी में जुटे परिजनों के पूछने पर रामकिशन ने बताय कि वे गलती से मुझे ले गए थे। परिवार का मातम खुशियों में बदल गया। लोगों के आंखों में आंसू तो थे लेकिन जिंदा पाकर चेहरे पर मुस्कान तैर गई.

समाचार पत्रों में छपी ख़बरों के अनुसार घटना  अलीगढ़ के अतरौली के किरथला गांव की  है.  जहां 53 वर्षीय रामकिशन सिंह उर्फ भूरा सिंह का निधन हो गया था.  रामकिशन की मौत के बाद परिवार में कोहराम मच गया.  रामकिशन की मरने की सूचना सभी रिश्तेदारों में फैल गई.  परिजनों को रोता देख ग्रामीणों की आंखों में भी पानी छलक गया.  गांव के लोगों ने अंतिम संस्कार की तैयारी करना शुरु कर दी थी.  लेकिन 5 घंटे बाद रामकिशन के शरीर में हलचल हुई, तो लोग हैरान रह गए. लोगों को विश्वास नहीं हुआ.  रामकिशन ने परिवार रिश्तेदार और दोस्तों को देखा और सभी को नाम से पुकारा.

लोगों को रोता हुआ देखकर रामकिशोर ने कहा कि मैं बिल्कुल ठीक हूं.  यमराज गलती से मुझे ले गए थे लेकिन वापस भेज दिया है. रामकिशन ने बताया कि मेरा नंबर अभी नहीं था इसलिए मुझे धक्का दे कर भगा दिया. रामकिशन के शरीर में उठी हलचल और बात सुनकर परिवार के साथ गांव के लोगों चकित हैं.

रामकिशोर ने कुछयूं सुनाई यमलोक की कहानी…..

जिंदा होने के बाद रामकिशोर से लोगों को बताया कि बीते  5 घंटे के बारे में ज्‍यादा कुछ याद नहीं है लेकिन जहां गया था वहां एक बैठक चल रही थी और कुछ दाढ़ी वाले महात्मा अपने प्रमुख से बारी-बारी बातें कर रहे थे. उन्होंने कहा कि इस दौरान सबसे बुजुर्ग महात्मा ने उनके बारे में कई सवाल किये और पूछा कि इसे क्यों लाये हो, इसे ले जाओ, अभी समय है. रामकिशन ने बताया कि इसके तुरंत बाद उन्हें एक धक्का सा लगा और जब आंखें खुली तो घर पर रोते-बिलखते परिवार वालों को देखा.

बहरहाल, आज के विज्ञान के इस दौर में कोई भी रामकिशन की इस कहानी पर यकीन नहीं करेगा. लेकिन रामकिशन के दोबारा जिंदा होने की खबर गांव ही नहीं आस-पड़ोस के लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है. इस घटना के बाद रामकिशन के पास पहुंचकर लोग मृत्यु का नजारा और वाकया जानना चाहते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: