असम:  पू.सी. रेलवे ने सराईघाट पुल में जीपीआरएस आधारित जल स्तर की निगरानी प्रणाली स्थापित की

गुवाहाटी

आधुनिक तकनीक को अपनाने के राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम के तहत प्रमुख नदियों के जल स्तर में असामान्य वृद्धि के पूर्वानुमान द्वारा सतर्क करने के लिए, पू.सी. रेलवे ने हाल ही में साराईघाट रेल-सह-रोड ब्रिज में रडार टेक्नोलॉजी के आधार पर एक प्रणाली को सफलतापूर्वक स्थापित किया है।

प्रणाली स्वचालित रूप से और लगातार ब्रह्मपुत्र नदी में जल स्तर की निगरानी करेगी और नियमित अंतराल पर पूर्व-निर्धारित सेल फोन पर एसएमएस भेजेगी। यह स्वचालित प्रणाली अभी तक अपनाई जा रही रिकॉर्डिंग की मानवयुक्‍त पद्धति में सुधार है। जल्द ही इसे रेलवे ट्रैक मैनेजमेंट सिस्टम (टीएमएस) के साथ एकीकृत किया जाएगा।

इसी तरह की प्रणाली पू.सी. रेल के भीतर कुल 10 पुलों में स्थापित की जाएगी। जैसे ही नदी में पानी खतरे के स्तर को पार करेगा रेलवे सिस्टम की देखभाल करने वाले रेलवे कर्मचारी संकेत प्राप्त करेंगे, ताकि ट्रेन सेवाओं में किसी भी खतरे को दूर करने के लिए उचित रूप से नियंत्रित किया जा सके।

इस प्रणाली में, उपकरण में उत्पन्न विद्युत-चुंबकीय तरंगें हवा के माध्यम से गुजरती हैं और पानी की सतह तक पहुँच कर सेंसर पर वापस आती हैं। उपकरण और पानी की सतह के बीच की दूरी की गणना तरंगों के यात्रा करने के समय से की जाती है। इस प्रकार, पानी का एक बहुत सटीक और विश्वसनीय स्तर पाया जाता है। साइट से, डेटा सीधे जीपीआरएस के माध्यम से मास्टर सिस्टम में जाता है। चेतावनी सिग्नल स्वचालित रूप से इंटरनेट आधारित सिस्टम के माध्यम से सेल फोन और टीएमएस को भेजे जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: