NORTHEAST

असम- नगालैंड सीमा पर मुठभेड़, एक मेजर शहीद, तीन उल्फाई ढेर

सोनारी

असम-नगालैंड के सीमावर्ती मोन जिले में हुई एक जबरदस्त मुठभेड़ में टेरीटोरियल आर्मी का एक मेजर शहीद हो गया| वहीँ इस मुठभेड़ में 3 उग्रवादी भी मारे गए| एक ऑटो चालक की भी इस दौरान मौत हो गई|

नागालैंड के मोन जिला में तथा सीमावर्ती म्यांमार में एनएससीएन(के) के सहयोग से उल्फा स्वाधीन के शिविर वर्षों से चल रहे हैं| सुरक्षा बलों को उग्रवादियों की गतिविधियों की सूचना मिली थी| इसी के मद्देनजर दो दिनों से उग्रवादियों के खिलाफ तलाशी अभियान चला रखा था|

जानकारी के अनुसार मंगलवार की शाम दो ऑटो में सवार होकर उल्फा व एनएससीएन(के) का लगभग 12 सदस्यीय दल तिजित में एनएपी कैंप इलाके में बाजार लगने पर खाद्य सामग्री खरीदने आए थे, जिसकी भनक सुरक्षाबलों को लग चुकी थी| सुरक्षाबलों ने लामपुंग बस्ती से पहले लाफा इलाके में ऑटो को रुकने का संकेत किया, जिससे उल्फाइयों ने खतरा भांपकर फायरिंग शुरू कर दी| तब तक एक ऑटो आगे बढ़ चुका था, जिसमें सवार उग्रवादी संगठन के सदस्यों ने भी सुरक्षाबलों पर ग्रेनेड तथा फायरिंग की| मुठभेड़ आज तड़के तक चलती रही|

मुठभेड़ में नगा एनए का मेजर डेविड मानलूंग शहीद हो गया तथा तीन अन्य जवान घायल हो गए| मुठभेड़ में मारे गए तीन उल्फाइयों की पहचान फनिंद्र असम उर्फ पंकज मोलिया, विपुल असम उर्फ अकनी वैश्य और डिकम कुंवर के रूप में की गई है|

मुठभेड़स्थल से सुरक्षाबलों ने एक एके 47 राइफल , दो एके 81 राइफल, दो चाइनिज ग्रेनेड, तीन मोबाइल हैंडसेट, 756 कारतूस, भारी मात्रा में दवाई व खाद्य सामग्रियां बरामद की है|

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close