GUWAHATI

असम में कृष्णगुरु आध्यात्मिक विश्वविद्यालय का लोकार्पण

गुवाहाटी

बरपेटा के नसत्र में मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने गुरुवार को कृष्णगुरु आध्यात्मिक विश्वविद्यालय का लोकार्पण किया| इस विश्वविद्यालय में समकालीन शिक्षा के साथ ही अध्यात्मवाद की शिक्षा भी दी जाएगी| चालू महीने से ही विश्वविद्यालय में असमिया, राजनीती विज्ञान और गणित के पाठ्यक्रम शुरू किए जा रहे है| आने वाले दिनों में अन्य विषयों को भी पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा|

इस मौके पर मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने कहा कि कृष्णगुरु की आद्यात्मिक शिक्षाओं पर स्थापित आध्यात्मिक विश्वविद्यालय उच्च शिक्षा के क्षेत्र में एक एजेंडा तैयार करेगा और एक छात्र की बौद्धिकता को अध्यात्मवाद के साथ समाहित करेगा| आध्यात्मिक विश्वविद्यालय मानवता के सिद्धांतों पर आधारित होगा|

कृष्णगुरु सेवाश्रम के साथ अपने संबंध को याद करते हुए सोनोवाल ने बताया कि जब वे सन 1988 में पहली बार इस केंद्र में आए थे, तब यह संस्थान अपनी प्रारंभिक अवस्था में था और तब से यह एक लंबी दूरी तय कर चुका है| अब यह सीखने का केंद्र बन गया है, जिसने राज्य के संसाधनों का उपयोग करने की जिम्मेवारी ली है|

मुख्यमंत्री ने कहा कि कृष्णगुरु विश्वविद्यालय को राज्य के समान विकास को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी| उन्होंने यह घोषणा भी की कि उनकी सरकार इस विश्वविद्यालय को एक आवश्यक घटक के रूप में ई-लर्निंग शुरू करने में मदद करेगी ताकि अन्य उच्च शिक्षा संस्थान व प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों के साथ एक ट्रैक बना सके|

विश्वविद्यालय के लोकार्पण के अवसर पर शिक्षा मंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने कहा कि राज्य में इस विश्वविद्यालय के शैक्षणिक सत्र का उद्घाटन उच्च शिक्षा के क्षेत्र में एक अनूठी पहल है| उन्होंने उम्मीद जताई कि यह विश्वविद्यालय नालंदा और तक्षशिला जैसे प्राचीन विश्वविद्यालयों के अनुरूप कार्य करेगा|

उन्होंने घोषणा की कि इस विश्वविद्यालय के हिस्से के रूप में तीन केंद्र स्थापित करने के लिए 5 करोड़ रुपए की राशि देगी जिसके तहत एक योग केंद्र, कौशल विकास केंद्र और जीएनएम प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना की जाएगी| उन्होंने राज्य में 14 कृष्णगुरु विद्यालयों की स्थापना के लिए प्रत्येक को 1 लाख रुपए देने की भी घोषणा की|

कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने कृष्णगुरु सेवाश्रम परिसर में पीपीपी मोड के तहत बिल फिशरी एकीकृत एक्वाकल्चर एवं उत्पादन केंद्र का भी उद्घाटन किया |

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close