GUWAHATI

असम समझौता संशोधन पर अकेले आसू से बात करना गलत – अजमल

गुवाहाटी

एआईयूडीएफ प्रमुख मौलाना बदरुद्दीन अजमल ने केवल आसू से बातचीत कर असम समझौते में संशोधन के राज्य सरकार की पहल पर गहरी चिंता जताई है| उनका कहना है कि सरकार को इस बारे में राज्य के सभी समुदाय के लोगों से बात करनी चाहिए| महज एक संगठन की राय लेना राज्य की आम जनता की उपेक्षा करना है|

उन्होंने राज्य के कुछ बुद्धिजीवियों के विचारों पर सहमती जताते हुए कहा कि असम समझौते पर असम गण परिषद ने हस्ताक्षर किए थे| आसू तो उस परिषद का एक हिस्सा मात्र था| इस बारे में सरकार को आसू के अलावा राज्य के सभी राजनीतिक और गैर राजनीतिक संगठनों से भी विचार-विमर्श करना चाहिए|

उन्होंने सवाल उठाया कि असम समझौते के 25 साल बाद अचानक इसमें संशोधन की जरुरत क्यों महसूस की जा रही है| उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि दरअसल राज्य सरकार नागरिकता कानून में संशोधन के लिए बेताब है| राष्ट्रीय नागरिक पंजी के अद्यतन का कार्य राज्य सरकार की सोची-समझी साजिश है|

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close