GUWAHATI

Assam: असम में मदरसा शिक्षकों को नियमित तौर पर थाने में लगानी होगी हाजिरी

शिक्षा के अधिकार का पूरा सम्मान किया जाएगा और मदरसा शिक्षकों का एक डेटाबेस रखा जाएगा.

गुवाहाटीः असम Assam के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने रविवार को कहा है कि मदरसों Madarsa में अच्छा माहौल बनाने के लिए असम पुलिस शिक्षा के प्रति सकारात्मक रुख रखने वाले कुछ बंगाली मुस्लिमों के साथ भी समन्वय कर रही है. शर्मा ने कहा कि मदरसों में विज्ञान और गणित की तालीम भी छात्रों को दी जाएगी. शिक्षा के अधिकार का पूरा सम्मान किया जाएगा और मदरसा शिक्षकों का एक डेटाबेस रखा जाएगा. इसके अलावा, मदरसों में पढ़ाने के लिए असम के बाहर से आने वाले सभी शिक्षकों को नियमित अंतराल पर नजदीकी पुलिस थानों में हाजिरी लगानी होगी.

Also Read – Honeymoon Couples के लिए Sikkim की 4 खास जगहें

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘पुलिस महानिदेशक बी जे महंत के निर्देश के तहत पुलिस मदरसा शिक्षा को और बेहतर बनाने के लिए मुस्लिम समुदाय के साथ काम कर रही है. बंगाली मुस्लिम को दुश्मन मानने के बजाय हम उन्हें हितधारक बना रहे हैं.’’ राज्य के गृह विभाग का भी प्रभार संभाल रहे शर्मा ने कहा कि कुछ जिलों में ऐसे कई इलाके हैं, जहां सिर्फ बंगाली मुस्लिम हैं और हम उन्हें हितधारक बना रहे हैं।

Assam-Meghalaya सीमा पर असम सीएम का विधानसभा में बड़ा बयान, पुलिस ने आत्मरक्षा में चलाई थी गोली

मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने कहा कि राज्य पुलिस इस्लामी धर्मगुरुओं की जिहादी गतिविधियों में कथित संलिप्तता के बाद मदरसा शिक्षा में सुधार के लिए ये कदम उठा रही है. उन्होंने कहा कि राज्य पुलिस ने 2022 के दौरान आतंकी संगठन अंसारूल बांग्ला टीम और ‘अल कायदा इन इंडियन सबकॉंटीनेंट’ (एक्यूआईएस) के आठ मॉड्यूल का पर्दाफाश किया था और इस सिलसिले में 51 लोगों को गिरफ्तार भी किया है. इस मामले में कुछ निजी मदरसों से संचालित हो रहे नौ बांग्लादेशियों की सीधी संलिप्तता का भी पता चला है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button