महिलाओं की भरपूर भागीदारी होती है होली में

गुवाहाटी

Ravi AjitsariyaBy Ravi Ajitsariya

गुवाहाटी के फैंसी बाज़ार में होली के अवसर पर लोग एक दुसरे को रंग लगा कर ख़ुशी मानतें हुए दिखाई दिएl आमतोर पर व्यस्त रहने वाला फैंसी बाज़ार आज सूना सूना नजर आयाl होली का रंग बेचने वालें के कर्कश स्वर और होली के गीतों की धुन सुनाई पड़ रही थीl

फैंसी बाज़ार में विशेष तौर पर होली का आयोजन हर वर्ष होता हैl इस आयोजन को देखने गुवाहाटी के हर जगह से लोग आतें हैl उल्लेखनीय है कि मंगलवार को फैंसी बाज़ार के कई चौराहों पर होली के सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित हुए, जिसमे बड़ी संख्या में लोगो पुरे परिवार के साथ शामिल हुएl बड़ी संख्या में महिलाओं की उपस्थिती देख कर यह साफ़ हो जाता है कि महिलाओं की भरपूर भागीदारी होती है होली में |

होली टोली के कार्यक्रम में बड़ी संख्यां में महिलाओं की उपस्तिथि इस बात की ओर इंगित करती है कि समय के साथ महिलाओं की सार्वजनिक कार्यक्रमों में भागीदारी बढ़ी हैl देर रात तक चले इन कार्यक्रमों में हर तबके के लोगों ने होली के गीतों का भरपूर आनंद लियाl होली टोली के कार्यक्रम में गिंदर का आयोजन किया जाता है , जिसमें एक बड़े मंच के सामने पुरुष गोल घेरें में नृत्य करतें हैl बेहद शालीन और अनुशासन के साथ होली टोली के सदस्य पारंपरिक वेशभूषा में मंच पर साज और गीत पेश कर रहें थेl

इधर चाय गली की नुक्कड़ पर एक अन्य कार्यक्रम में देवकी एंड ग्रुप ने मोर्चा संभल रखा था, जिसमे लोगों ने भरपूर आनंद लिया l यूनियन बेंक बिल्डिंग के अन्दर भी एक बड़े दल ने मोर्चा संभाल रखा था, जहाँ लोग चंग की थाप पर थिरक रहे थे l शनि मंदिर के चौराहें पर फ्रेंड्स क्लब ने मोर्चा सम्भाल रखा था l इस कार्यक्रम में एक स्टेज शो का आयोजन किया जाता है, जिसमे स्थानीय कलाकार भी बुलाए जाते हैl शनि मदिर चौराहे से लेकर यूनियन बेंक तक पुरे रास्ते को सजाया गया है, जिसपर स्वादिष्ट चाट-पकोड़े की दुकाने भी सजीं हुई दिखाई दी l इस कार्यक्रम को देखने भारी भीड़ हर वर्ष जुटती हैl

बुधवार को होली का प्रथम दिन होने से सुबह से ही लोगो एक दूसरों को रंग लगाते हुए द्केहा गयाl रंगों का त्यौहार होली न सिर्फ एक पर्व है, बल्कि समाज के लिए एक आनंददायक, प्रेरणादायक और उत्साह का पर्व है, जहाँ मनुष्य अपने गम और पीड़ा को भूल कर एकता और मिलन के स्पष्ट सन्देश देता हैl इसका जीता जागता  उदहारण हमें गुवाहाटी में दिखाई देता है l यहाँ भारतीय संस्कृति की अमिट छाप बनती है, होली के अवसर पर, जब भिन्न-भिन्न जाति और इकाइयों के लोग एक साथ होली खेलते है l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: