DD1 पर देखिए डॉ. इलियास पर बनाई गई डाक्यूमेंट्री

गुवाहाटी

किया  इस्लाम  “परिवार नियोजन के साधनों” को अपनाने की इजाज़त नहीं देता? किया पुरुषों या महिलाओं के लिए नसबंदी करवाना गुनाह है? शायद आप कहेंगे हाँ…. लेकिन यदि असम के डॉक्टर इलियास अली की माने तो जवाब मिलेगा नहीं, बिलकुल नहीं…. डॉ. इलियास कहते हैं की कुरान में लिखा है की केवल बच्चे को जन्म देने से ही मातापिता की ज़िम्मेदारी  खत्म नहीं होती बल्कि उन्हें पाल-पोस कर, पढ़ा-लिखा कर एक अच्छा इंसान बनाने की ज़िम्मेदारी भी मातापिता की ही है.

हदीस में इस बात का ज़िक्र है की दो बच्चों के बीच का फासला कम से कम ३० से ३६ महीनों का होना चाहिए? पिछले सात वर्षों से डाक्टर इलियास गाँव गाँव जा कर मुसलमानों तक कुरान और हदीस का यही पैगाम पहुंचा रहे हैं. और अब उन की यह मेहनत रंग लाने लगी है. कल तक जो लोग “परिवार नियोजन ” के खिलाफ थे आज खुद चल कर अस्पताल पहुँच रहे हैं और अपना नसबंदी करवाकर खुशी खुशी घर लौट रहे हैं.

डॉ. इलियास की इसी मेहनत और लगन पर बनाई गई एक डाक्यूमेंट्री फिल्म देखिये शनिवार ( 29 Oct ) को शाम 6:30 बजे और रविवार ( 30 Oct ) को सुबह 7:30 बजे DD-1 पर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: