उरी आतंकी हमला- भारत मुंहतोड़ जवाब देगा, लेकिन कब और कैसे…….?

नई दिल्ली 

जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में हुए आतंकी हमले में एक ओर जहां अब तक 20 जवानो की शहीद होने की खबर है. वहीं दूसरी ओर यह ख़बरें आ रही हैं कि अब भारत भी पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने का मन बना लिया है.

सूत्रों के हवाले से खबर है कि भारतीय सेना एलओसी पर तोपों की तैनाती और अन्य ऑपरेशंस को मंजूरी देने की मांग कर सकती है. यही नहीं भारतीय सुरक्षा बलों का एक बड़ा वर्ग चाहता है कि सरकार सीमा पार हमलों पर भी विचार करे.

एलओसी सीमा पर सेना की तैनाती करने का फैसला पाकिस्तानी सेना को भी नुकसान पहुंचाने की रणनीति है. जो लगातार जम्मू-कश्मीर में आतंकियों की घुसपैठ कराती रही है और उन्हें मदद करती है.

सूत्रों की माने तो इस बात पर भी गौर किया जा रहा है कि उरी हमले को अंजाम देने वालों को कैसे, कब और कहां जवाब दी जाए.

हालांकि जम्मू कश्मीर मामलों को देख रहे भाजपा नेता राम माधव ने कहा कि रणनीतिक संयम रखने के दिन खत्म हो गए हैं और उन्हों ने सुझाव दिया कि हमले के बाद ‘एक दांत के लिए पूरा जबड़ा’ की नीति होनी चाहिए.

बता दें कि जम्मू-कश्मीर में सेना की उरी मुख्यालय पर हुए आतंकी हमले के बाद डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने बताया कि मारे गए सभी चार आतंकवादी विदेशी थे. वे जो सामान वे लोग लेकर आए थे उन पर पाकिस्तान निर्मित होने के निशान हैं. शुरुआती रिपोर्ट से संकेत मिलते हैं कि मारे गए आतंकवादियों का ताल्लुक जैश-ए-मोहम्मद से है.’

इस बीच प्रधानमंत्री कार्यालय में मंत्री जितेंद्र सिंह ने इस हमले के बाद भी चुप बैठने को कायरता और जल्द ठोस जवाब दिए जाने की घोषणा कर माहौल को गर्म कर दिया है. वहीं दूसरी ओर जम्मू-कश्मीर के उरी में हुए आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने भारत को परमाणु हमले की धमकी दी है.

जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर स्थित आर्मी कैंप के 12 ब्रिगेड हेडक्वार्टर पर आतंकियों के आत्मघाती हमले के बाद एक बड़ा खुलासा हुआ है. हमलावर आतंकियों के पास भारी पैमाने पर असलहों के अलावा पूरे मिशन की लिखित योजना के होने की बात सामने आई है. आतंकी मिशन प्लान पश्तो भाषा में लिखा हुआ था.

अंग्रेजी अखबार ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ की खबर के मुताबिक, मिशन प्लान में उरी आर्मी कैंप का नक्शा बना हुआ था. जहां निहत्थे भारतीय सैनिकों की हत्या कर दी गई. नक्शे में कैंप के मेडिकल यूनिट, प्रशासनिक भवन और ऑफिसर्स मेस तक की जानकारी दर्ज होने की बात कही जा रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: