SPECIAL

ज़रूर पढ़िए- “यौन पवित्रता” के नाम पर सेक्स की अनूठी परम्परा

वेब डेस्क

दुनिया भर के अलग अलग देशों में आज भी ऐसी आजीब गरीब परम्पराएं हैं जिस के बारे में जान कर और पढ़ कर आप हैरान हो जाएंगI दक्षिण-पूर्वी अफ्रीका में एक देश है मलावी I यहां एक ऐसी अनूठी परंपरा है जिसके तहत लड़कियों को पहले माहवारी शुरू होने के तीन दिन के भीतर “यौन पवित्रता” के नाम पर एक पेड सेक्स वर्कर के साथ शारीरिक सबंध बनाना होता है। यहाँ के लोगों की ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से लड़कियां शुद्ध होती है। इस काम के लिए लड़की के घरवाले खुद लड़की को उस सेक्स वर्कर के पास लेकर जाते हैं। इस सेक्स वर्कर को ‘हईना’ कहा जाता है। इस कार्य को स्थानीय लोग और अभिभावक बलात्कार के रूप में नहीं बल्की इसे लड़कियों को पवित्र करने के परम्परा के रूप में देखते हैं।

एक टीवी चैनल के अनुसार दक्षिणी मलावी के नसांजे जिले के एक गांव में एरिक अनिवा नाम का व्यक्ति ‘हईना’ के लिए प्रख्यात है। यह एक पारंपरिक उपाधि है जिसे एक आदमी को दी जाती है। इसे दक्षिणी मलावी में हाशिये के इलाके के लोग नियुक्त करते हैं। ‘हईना’ के साथ शारीरिक सबंध बनाने की प्रक्रिया को ‘यौन पवित्रता’ कहा जाता है। उस समुदाय में कुल 10 ‘हईना’ हैं। ये नसांजे जिले के हर गांव में लड़कियों के साथ शारीरिक सबंध बना कर उन का ‘शुद्धीकरण’ करते हैं। इन्हे एक लड़की का ‘शुद्धीकरण’ के लिए चार से सात डॉलर का भुगतान किया जाता है।

हैरत की बात तो यह है कि यदि ‘हईना’ के साथ शारीरिक संबंध बनाने से लड़कियां इनकार करती हैं तो माना जाता है कि उसे कोई बीमारी है या घातक विपत्ति से घिरी हुई है। इस विपत्ति की चपेट में उसका पूरा परिवार  या पूरा गांव आ सकता है।

यदि एक आदमी की मृत्यु हो जाती है तो परम्परा के मुताबिक विधवा को एक बार अनिवा के साथ शारीरिक संबंध बनाना पड़ता है। इसके बाद वह पति को दफना सकती है। यदि किसी महिला ने गर्भपात कराया है तो उसे भी एक बार फिर से हईना के साथ यौन पवित्रता की परम्परा से गुज़रना पड़ता है।

अनिवा की उम्र 40 साल के आसपास है। वह अपनी उम्र को लेकर स्पष्ट नहीं है। फिलहाल उसकी दो पत्नियां हैं। ये पत्नियां अपने पति के काम से पूरी तरह अवगत हैं। उसका दावा है कि वह 104 औरतों और लड़कियों के साथ शारीरिक संबंध बना चुका है।

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close