त्रिपुरा में किल्लत, राज्य सरकार की केंद्र से अपील

त्रिपुरा

त्रिपुरा अत्यावश्यक सामग्रियों और इंधन की किल्लत से जूझ रहा है| राज्य सरकार ने केंद्र से अपील की है कि बंग्लादेश के जरिए यह सामग्रियां राज्य में भेजी जाए| राष्ट्रीय राजमार्ग 8 की खस्ता हालत की वजह से एक महीने से अधिक समय से ट्रकों और अन्य वाहनों की आवाजाही बंद है| देश के अन्य हिस्सों से त्रिपुरा का संपर्क कटा हुआ है|

त्रिपुरा सरकार ने केंद्र से अपील की है कि बंग्लादेश से होते हुए त्रिपुरा तक आत्यावश्यक सामग्रियां और इंधन पहुँचाया जाए| त्रिपुरा के खाद्य तथा नागरिक आपूर्ति मंत्री भानुलाल साहा ने कहा कि चूँकि यह द्विपक्षीय मामला है इसलिए केंद्र से इस तरह का अनुरोध किया गया है| उन्होंने बताया कि पेट्रोलियम पदार्थों को मेघालय के दावकी सीमा से रघना होते हुए त्रिपुरा के धर्मनगर लाया जा सकता है जबकि अत्यावश्यक खाद्य सामग्री को राज्य में लाने के लिए बांग्लादेश के आशुगंज बंदरगाह का इस्तमाल किया जा सकता है|

राजमार्ग बंद होने के बाद त्रिपुरा में 90 दिन की खाद्य सामग्री मौजूद थी जो अब घटकर 40 से 42 दिन की रह गई है| राष्ट्रीय राजमार्ग की खस्ता हालत पर चिंता जताते हुए मंत्री ने कहा, पूर्व की असम सरकार ने दो महत्वपूर्ण सड़कों के विकास के लिए कुछ नहीं किया| दिसपुर की नई सरकार भी बहुत कुछ कह रही है, लेकिन अब इस मामले में किस तरह की कार्रवाई होती है वही देखना है|

उन्होंने साथ ही कहा, “अगर असम सरकार अनुमति देती है तो हमारी सरकार कथलतली में हाईवे के 3 किलोमीटर इलाके की मरम्मत करने को तैयार है|” उन्होंने चिंता जताई कि यदि सितम्बर महीने से पहले आत्यावश्यक सामग्रियां राज्य में नहीं पहुंची तो परिस्थिति और गंभीर हो सकती है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: