SC ने अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस सरकार को किया बहाल, केंद्र की बीजेपी सरकार को बड़ा झटका

नई दिल्ली 

केंद्र की बीजेपी सरकार को सुप्रीम कोर्ट से आज बड़ा झटका लगा है I  अरुणाचल प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने के मामले में सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की संविधान पीठ ने आज अहम फैसला सुनाते राज्य में कांग्रेस सरकार बहाल करने का आदेश दिया है । बता दें कि 26 जनवरी से राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू था। ऐसा  पहली बार है जब सुप्रीम कोर्ट ने पुरानी सरकार को वापस सत्ता में बुलाया है।

तुकी और पुल - जब अच्छी मित्र हुआ करते थे
तुकी और पुल – जब अच्छे मित्र हुआ करते थे

कोर्ट ने राज्य में 15 दिसंबर 2015 वाली स्थिति बरकार रखने का आदेश दिया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि राज्यपाल  को विधानसभा बुलाने का अधिकार नहीं था। यह गैरकानूनी था। 15 दिसंबर 2015 के बाद से लिए गए सारे एक्शन रद्द कर दिए गए हैं।

हालांकि जस्टिस जे एस खेहर, जस्टिस दीपक मिश्रा और जस्टिस मदन लोकुर ने अलग अलग फैसले सुनाए। सुप्रीम कोर्ट यह तय करेगा कि क्या राज्यपाल को यह अधिकार है कि वह स्वत संज्ञान लेकर विधानसभा का सत्र बुला सकता है या नहीं।

पूरे मामले पर एक नज़र

  • दरअसल अरुणाचल प्रदेश के स्पीकर नबम रेबिया ने सुप्रीम कोर्ट में ईटानगर हाईकोर्ट के उस फैसले को चुनौती दी थी जिसमें 9 दिसंबर को राज्यपाल जेपी राजखोआ के विधानसभा के सत्र को एक महीने पहले 16 दिसंबर को ही बुलाने का फैसले को सही ठहराया था।
  • 26 जनवरी को राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया और कांग्रेस की नाबम तुकी वाली सरकार परेशानी में आ गई क्योंकि 21 विधायक बागी हो गए। इससे कांग्रेस के 47 में से 26 विधायक रह गए।
  • सुप्रीम कोर्ट ने 18 फरवरी को दूसरी सरकार बनने से रोकने की तुकी की याचिका नामंजूर कर दी। 19 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान ही बागी हुए कालीखो ने 20 बागी विधायकों और 11 बीजेपी विधायकों के साथ मुख्यमंत्री की शपथ ले ली और सरकार बना ली थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: