SIX X- फिल्म एक कहानी 6, राजस्थान की भी झलक, रश्मि देसाई मुख्य भूमिका में

मुंबई 

रिलीज़ होने से पहले फिल्म सिक्स एक्स  SIX X चर्चा में है. यह अपनी तरह की अनोखी  फिल्म है जिस में एक साथ 6 कहानियाँ हैं. इन्हीं 6 कहानियों में  एक कहानी है ” नरसिंह गढ़ ”  जिस में रश्मि देसाई ,  राजेश शर्मा और हेमंत पाण्डे मुख्य किरदार निभा रहे हैं, फिल्म के निदेशक हैं अली शाह. फिल्म 9 सितंबर को रिलीज़  होने वाली है.

Ali-Shah-with-Rashmiनरसिंह गढ़ कहानी है राजस्थान की जहां आज भी बेटा को बेटी पर तरजीह दी जाती है… जहां लोगों का मानना है कि बेटा ही खानदान को आगे बढ़ाता है. कहानी में इसी सोच को दर्शाया गया है.

नरसिंह गढ़ में चौधरी अपने बेटों के साथ रहता है. नाम, इज्ज़त, दौलत, और रूतबा सभी कुछ है उस के पास. अगर नहीं है तो चौधरी खानदान के नाम को आगे बढ़ाने वाला वारिस. चौधरी को इस बात का बहुत दुख है.

बड़े बेटे ने शादी के बाद तीन बेटियों का बाप बन गया. वारिस की चाह में चौधरी ने अपने छोटे बेटे का शादी करवाता है और सारे गाँव में सीना तान कर कहता है कि उस का छोटा बेटा अब बहुत जल्द उस के खानदान को एक वारिस देगा जो खानदान के नाम को आगे बढ़ाएगा. …..लेकिन चौधरी के सारे अरमानो पर उस समय पानी फिर जाता है जब उसे यह पता चलता है कि उस का छोटा बेटा नपुंसक है. पोते की चाह में चौधरी इतना जुनूनी हो जाता है की अपनी ही बहु का बलात्कार कर बैठता है इस उम्मीद के साथ वोह गर्भवती होगी और खानदान को वारिस मिल जाएगा.

Rashmi-Desaiलेकिन कहानी अभी आगे बढ़ती है. चौधरी के चंगुल से भाग कर जब बहु गाँव के सरपंच के घर पहुँचती है तो वहाँ भी उसे पुरुषों के ज़ुल्म का सामना करना पड़ता है. …फिर एक दिन उसे एहसास होता है कि वः गर्भवती है….. और यह सोच कर कि इस दुनिया में अकेली लडकी का कोई सहारा नहीं होता….वह चौधरी के घर वापस आ जाती है.

कहानी आगे बढ़ती है …कुछ दिनों बाद बहु एक लड़के को जन्म देती है. चौधरी बहुत खुश होता है. धूम धाम से लड़के का नामकरण समारोह का आयोजन किया जाता है. नामकरण के दौरान जब लड़के के पिता का नाम पूछने पर चौधरी अपने छोटे बेटे का नाम बताने जा ही रहा होता तब ही बहु चौधरी की सच्चाई सब को बता देती है और फैसला चौधरी पर छोड़ देती है की वह यह तै करे कि लड़के का पिता कौन है……..खुद चौधरी …? गाँव का सरपंच…?   या फिर गाँव का थानेदार ?

कहानी निदेशक अलीशाह ने यह बताने का प्रयास किया है कि समाज औरत को कमज़ोर समझता है लेकिन औरत कमजोर नहीं होती है…..वह तो हर हाल में घर और अपनों की इज्ज़त बचाने के लिए हर ज़ुल्म सहती रहती है…. लेकिन यही औरत जब अपने पे आ जाती है तो फिर किसी शेरनी से कम नहीं होती…..

विडियो देखने के लिए नीचे क्लिक करें—

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: