इस बार केजरीवाल की ओर फैंका गया जूता, मचा राजनैतिक बवाल

नई दिल्ली

नेताओं पर कालिक, या जूते फेंकने का चलन अब अधिक बढ़ता जा रहा है. इस का कारण किया है इस पर नेताओं को गम्भीरता से सोचने की ज़रुरत है. यह हम इस लिए कह रहे हैं कि आज एक बार फिर दिल्ली में इस तरह की घटना घटी है. नेता थे दिल्ली के मुख्य मंत्री अरविन्द केजरीवाल. केजरीवाल एक प्रेस कांफ्रेंस कर रहे थे, उसी दौरान एक व्यक्ती द्वारा केजरीवाल की ओर जूता फैंका गया जूता. व्यक्ती के इस हरकत के बाद जहां प्रेस कांफ्रेंस में कुछ समय के लिए हंगमा मच गया, वहीं देश की राजधानी में राजनैतिक बवाल भी मच गया है.  

BJP--2-add

दरअसल, केजरीवाल ने आड-इवेन फार्मूले को लेकर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलायी थी. लेकिन कॉन्फ्रेंस की शुरुआत में ही उस आदमी ने केजरीवाल से कुछ सवाल पूछना चाहा, जिसपर उससे यह कहा गया कि वे पहले लिस्ट जारी होने दें, तब उन्हें जो पूछना हो पूछ लें, लेकिन इसके बाद उस व्यक्ति ने अपना जूता खोलकर केजरीवाल की तरफ उछाल दिया. हालांकि जूता केजरीवाल को लगा नहीं और दूर जा गिरा. वह आदमी केजरीवाल से किसी स्टिंग आपरेशन के बारे में जानना चाह रहा था और उसने कहा कि आप मेरे स्टिंग का जवाब क्यों नहीं दे रहे हैं.

जूता फेंकने वाले व्यक्ति का नाम है वेद प्रकाश शर्मा जो खुद को आम आदमी सेना का प्रतिनिधि बताया है. इस मामले पर आप ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए दावा किया है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर जूता फेंकने वाला वेद प्रकाश शर्मा हमले के पहले भाजपा के एक नेता के संपर्क में था.

वेद ने सीएनजी स्टिकर घोटाले पर एक स्टिंग किया था जिसमें कुछ पैसे लेकर आसानी से सीएनजी का स्टिकर दिया जा रहा था. वेद का आरोप था कि सरकार इस स्टिंग के बाद इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं कर रही है. उसने सरकार पर भी घोटाले का आरोप लगाया.

बता दें कि केजरीवाल पर इससे पहले स्याही फेंकी गयी थी. इसके अलावा केजरीवाल को पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान एक व्यक्ति ने थप्पड़ जड़ दिया था. जूता फेंकने की घटना के बाद इस मामले ने राजनीतिक रंग ले लिया. भाजपा और कांग्रेस पार्टी ने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि यह विरोध जताने का तरीका गलत है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: