लकड़ी पर उकेरी गयी अद्भुत गीता, प्रधान मंत्री ने की सराहना

कानपुर

कानपुर का 32 वर्षीय बढई संदीप सोनी कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि एक दिन देश के प्रधान मंत्री ने उसे अपने गले लगा लेंगे| लेकिन उसका यह सपना सच  हो गया और कारण बना संदीप द्वारा लकड़ी पर उकेरी गयी अदभुत भगवत गीता|

संदीप ने 26 जून 2014 को प्रधानमंत्री कार्यालय को पत्र लिखकर प्रधानमंत्री से मिलने का समय मांगा। लेकिन विभिन्न कारणों से वह इसमें सफल नहीं हो सके। प्रधानमंत्री कार्यालय के बुलावे पर संदीप सोनी ने नयी दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से अपनी मां सरस्वती सोनी और एक दोस्त के साथ मुलाकात की और उन्हें अपने द्वारा लकड़ी पर उकेरी गयी गीता भेंट की।

संदीप सोनी को इस अदभुत गीता को बनाने में तीन साल का वक्त लग गया। लकड़ी की यह गीता 32 बोर्ड की है जिसमें 18 अध्याय और 706 श्लोक लिखे हुये हैं।

प्रधानमंत्री इस अद्भुत गीता को देख कर बहुत प्रभावित हुये और गीता की सराहना की। प्रधानमंत्री ने संदीप और उनकी मां के साथ गीता लेकर फोटो खिंचवायी और बाद में उसे ट्विटर पर भी जारी किया। मोदी ने ट्वीट किया, ‘संदीप सोनी ने मुझे गीता की एक प्रति भेंट की है। इसे लकड़ी पर उकेरा गया है। मैं उनके इस प्रयास की सराहना करता हूं।’ 

कानपुर लौटने पर संदीप ने बताया, ‘प्रधानमंत्री को सामने देख मैं भावुक हो गया क्योंकि मुझे सपने में भी यकीन नहीं था कि एक दिन मैं प्रधानमंत्री के सामने खड़ा होऊंगा। प्रधानमंत्री मोदी ने मुझे गले से लगाया और मेरी मां से हालचाल पूछा। फिर प्रधानमंत्री ने मुझसे गीता को बनाने के बारे में पूछा तो मैंने प्रधानमंत्री को बताया कि यह गीता प्लाइवुड पर लकड़ी के अक्षरों को काटकर तीन साल में बनाई गई है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: