रास चुनाव: किस को लगेगा झटका, रानी नरह या महाबीर जैन को ?

गुवाहाटी

                                Ripun Bora        rani narah    MP JAIN

                                 रिपुंन बोरा                             रानी नरह                             एम पी जैन

MANZAR ALAM-GUWAHATI-2By-  Manzar Alam 

आज राज्य सभा के दो सीटों के लिए चुनाव होना है| सभों की नज़रें इस के नतीजे पर टिकी हैं | किस को झटका लगेगा,रानी नरह या महाबीर जैन को | क्योंकि राज्य सभा चुनाव के नतीजे विधान सभा के लिए बन रहे माहौल की ओर इशारा करेंग, कि हवा का रुख किस ओर है |

इस बार के चुनाव में चर्चा के कारण बने हुए हैं निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर मैदान में उतरे प्रसिद्ध व्यवसायी महावीर जैन | हालांकी इस से पहले भी महावीर जैन राज्य सभा के चुनाव में किस्मत आजमा चुके हैं, लेकिन सफलता नहीं मिली है | लगता है इस बार महावीर जैन ने आंकड़ों के पत्ते हासिल करने के बाद हे मैदान में उतरे है, और उन्हें अपनी जीत की पूरी उम्मीद है |

दूसरी तरफ मुख्य मंत्री तरुण गोगोई भी दोनों सीटों में कांग्रेस की जीत होने का दावा कर रहे हैं | गोगोई ने यह भी साफ़ कर दिया है कि ऐजीपी, बीजेपी, बीपीएफ़, और ऐआईडीयूएफ़ के कुछ विधायक उन के सम्पर्क में हैं|

मुख्य मंत्री के इस दावे से यह तो साफ़ हो जाता है कि, आंकड़े जुटाने के खेल में हॉर्स ट्रेडिंग जम कर हो रहा है | कांग्रेस को दोनों सीटें हासिल करने के लिए 10  नमबर की कमी है, यह कैसे पूरा होगा इस के जवाब में मुख्य मंत्री का कहना है, की चुनाव जीतने के लिए जितनी वोटों  की ज़रुरत है उतना का खाका तैयार  है| अब यह वोट कैसे और कहाँ से आयेंगे, यह बताना कोई  ज़रूरी नहीं है |

राज्यसभा की दो सीटों के लिए आज हो रहे चुनाव में 3 उम्मीदवार चुनावी मैदान में है। इनमें सत्ताधारी कांग्रेस के दो नेता है जिनमें पूर्व केंद्रीय मंत्री रानी नरह और पूर्व राज्य मंत्री रिपुन बोरा शामिल है। जबकि तीसरा उमीदवार हैं प्रसिद्ध व्यवसायी महावीर जैन है जो निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर मैदान में है|

महावीर जैन को बीपीएफ का समर्थन हासिल है। बीपीएफ के 10 विधायकों ने उनके नामांकन पर अपने हस्ताक्षर किए है। चूँकि बीपीएफ अब बीजेपी का घटक दल है और बीजेपी ने एजीपी से भी हाथ मिला लिया है , ऐसे में कांग्रेस को राज्यसभा में भी कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ सकता है। वहीँ कांग्रेस के टिकट से वंचित विधायकों के भी महावीर जैन के पक्ष में वोट करने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता। इस बीच माहमोरा क्षेत्र के कांग्रेस विधायक शरत सैकिया ने पार्टी टिकट नहीं मिलने पर राज्यसभा के वोट का बहिष्कार करने की घोषणा की है।

इधर ऐसी खबरें भी है कि एआईयूडीएफ भी महावीर जैन के पक्ष में वोट डाल सकता है। चूँकि एआईयूडीएफ अध्यक्ष बदरुद्दीन अजमल के साथ इस पर सहमति बनने की बात सामने आ रही है और साथ ही अजमल के साथ पारिवार के व्यवसायिक संबंधों को देखते हुए इस बात को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता। अगर खबर सही है तो महावीर जैन के पक्ष में एआईयूडीएफ का वोट पड़ने से कांग्रेस के लिए कड़ी चुनौती खड़ी हो सकती है।

राज्यसभा चुनाव में सीट जीतने के लिए 39 विधायकों का समर्थन चाहिए होता है। ऐसे में बीपीएफ, बीजेपी, एजीपी, एआईयूडी और कांग्रेस के टिकट से वंचित विधायकों के समर्थन से जहाँ महावीर जैन के चुनाव जीतने की उम्मीदें बढ़ी है वहीँ कांग्रेस के लिए चुनौती भी बढ़ गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: