GUWAHATI

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने किया नमामी ब्रह्मपुत्र महोत्सव का उद्घाटन

गुवाहाटी

देश के सबसे बड़े नदी महोत्सव नमामी ब्रह्मपुत्र का आज राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने दीप प्रज्ज्वलित कर उद्घाटन किया| 5 दिन तक चलने वाला यह महोत्सव असम के 21 जिलों में एक साथ आयोजित किया जा रहा है| राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने शहर के फैंसी बाजार के समीप काछोमारी घाट में दीप जलाकर महोत्सव का उद्घाटन किया|

अपने उद्घाटन भाषण में राष्ट्रपति ने कहा कि पूर्वी भारत और दक्षिण पूर्वी एशिया के इकनोमिक हब के रूप में असम विकसित हो रहा है| प्रधानमंत्री के एक्ट ईस्ट पालिसी का यह सबसे प्रभावशाली द्वार है| उन्होंने कहा कि दक्षिण पूर्वी एशिया, भारत के वाणिज्य और निवेश का महत्वपूर्ण स्थान है|

राष्ट्रपति ने असम की विविध संस्कृति का जिक्र करते हुए कहा कि भारत की शक्ति इस विविधतता को समेटने में है| ब्रह्मपुत्र असम और पूर्वोत्तर क्षेत्र की जीवन रेखा है| असम की संस्कृति और यहाँ की क्षमता को दुनिया के सामने लाने के लिए हर साल नमामी ब्रह्मपुत्र मनाने के राज्य सरकार के पहल की उन्होंने सराहना की|

उद्घाटन समारोह में हिस्सा लेने के लिए देशभर से बड़ी संख्या में लोग राजादुवार घाट पहुंचे| इस मौके पर भूटान के प्रधानमंत्री शेरिंग तोबगे, राज्य के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल, राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित समेत नामी –गिनामी हस्तियाँ उपस्थित थी|

उद्घाटन समारोह के मौके पर राज्य के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने प्रशंसा व्यक्त करते हुए कहा कि आज का यह दिन राज्य के लिए एक ऐतिहासिक दिन है| नमामी ब्रह्मपुत्र महोत्सव से दुनियाभर में असम की पहचान बनेगी| उन्होंने राज्यवासियों की ओर से राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भूटान के प्रधानमंत्री शेरिंग तोबगे को कार्यक्रम में उपस्थित रहने के लिए धन्यवाद दिया|

नमामी ब्रह्मपुत्र महोत्सव के उद्घाटन के बाद रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए जिसमें असम के विभिन्न जनसमुदायों की परंपरा और संस्कृति की झलक देखने को मिली| बाद में सार्वजनिक रूप से ब्रह्मपुत्र की आरति की गई| इसके अलावा विभिन्न कार्यक्रमों ने उपस्थित लोगों का दिल जीत लिया| ख़राब मौसम के बावजूद बड़ी संख्या में लोग ब्रह्मपुत्र के किनारे नमामी ब्रह्मपुत्र महोत्सव का उद्घाटन समारोह का लुत्फ उठाने पहुंचे| 5 दिवसीय देश के इस सर्ववृहद नदी महोत्सव का समापन 4 अप्रैल को होगा|

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close