पोपट भिकारी ने पक्षियों के चुबूतरे के लिए दान किया 1.15 लाख

भुज

आप सुन कर हैरान हो जाएंगे, लेकिन यह सच है की एक भिकारी ने भीक मांग कर जमा किये गए पैसों से 1.15 लाख रूपए दान किया, वोह भी पक्षियों के रहने के लिए बनाया जा रहा चबूतरों के लिए. मामला गुजरात के भुज का है, जहां एक पोपट नाम के एक भिखारी ने 40 साल तक भीख मांगकर अपना पेट भरा और एक-एक पाई जोड़कर करीब 1.15 लाख रुपए जमा कर लिए और पूरी जमा पूंजी कबूतरों के लिए चबूतरा बनाने के लिए दान कर दी। पोपट ने जिंदगी के 40 साल तक कच्छ में शूरवीर राजपूत राजाओं को समर्पित छतरियों के नीचे भीख मांगते हुए वक्त गुजारा है.

चबूतरा , जहां पक्षी करते हैं बसेरा
चबूतरा, जहां पक्षी करते हैं बसेरा

पोपट यूं तो मानसिक रूप से कमजोर है, लेकिन एक मंदिर के पुजारी को वह अपना भीख मांगा हुआ पैसा रखने के लिए रोजाना दिया करता था. पुजारी भी उसके पैसे को सहेज कर रखते गये. मानसिक संतुलन ठीक नहीं रहने के बाद भी भिखारी पुजारी को पैसा देना नहीं भूलता था. पुजारी के अनुसार भिखारी 1973 से रोजाना उसके पास पैसे रखने के लिए देता आ रहा है. अब उसके खाते में 1 लाख 15 हजार जमा हो गये हैं. जिसे उसने पक्षियों के रहने के लिए बनाये जा रहे चबूतरों के लिए दान कर दिया.

पुजारी ने बताया भिखारी पोपट का नाम अमर करने के लिए चबूतरों में उसका नाम दर्ज कराया जाएगा. गुजरात के ग्रामीण इलाकों में चबूतरों की भरमार मिलती है. सामाजिक और धार्मिक रूप से चबूतरों का बड़ा महत्‍व है. इन चबूतरों में खोह बने हुए रहते हैं जिसमें प‍क्षी अपना घोसला बनाकर रह सकते हैं. 40 साल से भीख मांग रहे इस भिखारी पोपट की याददाश्त काफी तेज है. वो एक बार जिस व्‍यक्ति से भीख मांगता है उसे वो हमेशा के लिए याद रखता है और दिखने पर जोर से चिल्‍ला कर आवाज देता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: