शहीद दिवस पर असम सरकार का भव्य आयोजन, असम आंदोलन के शहीदों के परिवार सम्मानित

गुवाहाटी

शहीद दिवस के मौके पर आज शहर में एक भव्य कार्यक्रम का आयोजन कर असम सरकार ने असम आंदोलन के 855 शहीदों के परिवारों को सम्मानित किया| सरकार ने असम आंदोलन के शहीदों के परिवारों को 5-5 लाख रूपए भी दिए| साथ ही संवैधानिक सुरक्षा कवच देकर असम के स्थानीय लोगों की सुरक्षा करने की वचनबद्धता को दोहराया |

मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने सरकार द्वारा आयोजित सम्मान समारोह में बीजेपी नीत सरकार की बंगलादेशी मुक्त असम बनाने की वचनबद्धता को दोहराया| यह पहली बार है जब असम सरकार ने 6 साल लंबे असम आंदोलन के 855 शहीदों के परिवारों को सम्मानित करने के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया|

सन 1979 में शुरू हुआ असम आंदोलन सन 1985 में आसू के प्रतिनिधियों और तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गाँधी के बीच हुए असम समझौते के बाद ही समाप्त हुआ था| खानापाड़ा के पशुचिकित्सा महाविद्यालय के खेलमैदान में हजारों लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री सोनोवाल ने कहा, “देश की अखंडता को बनाए रखने के लिए राज्य के छात्रों के नेतृत्व में किया गया असम आंदोलन पूरी तरह गणतांत्रिक आंदोलन था| इस आंदोलन ने असम की जनता की मानसिकता को वैश्विक नेताओं के समक्ष रखा|”

सोनोवाल ने कहा, “गांधीजी के आदर्शों के आधार पर चलाए गए इतने लंबे आंदोलन की मिसाल दुनिया में कही नहीं है| असम आंदोलन ने वृहत्तर असमिया समाज के विकास में योगदान दिया है| अगर हमें दुनिया को असम आंदोलन के बारे में बताना हो तो हमें अपनी परंपरा को अक्षुण्ण बनाए रखना होगा|”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: