Health

जानिए: माता-पिता बनने से पहले “कॉफ़ी” पीना छोड़ना है ज़रूरी

वेब डेस्क

coffeeदुनिया भर में लोग ” कॉफ़ी ” बहुत शौक से पीते हैं। विशेषकर सर्दियों में इसका उपयोग बहुत बढ़ जाता है। लेकिन वैज्ञानिकों ने अब इसका एक बड़ा नुकसान बताया है। अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के वैज्ञानिकों का कहना है कि ” जो दंपत्ती बच्चा पैदा करने की इच्छा रखते हैं उन्हें ” कॉफ़ी ” से बचना चाहिए। ख़ास कर साहचर्य से पहले और गर्भावस्था के दिनों में ” कॉफ़ी ” पीना हानिकारक है।  तो जानिए जानिए- माता-पिता बनने से पहले “कॉफ़ी” पीना छोड़ना है ज़रूरी, आखिर क्यों ? ।

“ब्रिटिश अखबार डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार वैज्ञानिकों का कहना है कि ” पति- पत्नी दोनों में से किसी एक का भी ” कॉफ़ी ”  पीना आनेवाले गर्भावस्था के लिए बहुत ही खतरनाक होता है। इसके अलावा जो महिलाएं गर्भवती होने के पहले 7 सप्ताह में हर रोज़ 2 कप ” कॉफ़ी ” पीती हैं उनका गर्भावस्था हानि की संभावना भी बहुत अधिक हो जाता है ।

” कॉफ़ी ” के अलावा कैफीन वाले अन्य पेय चाय आदि में भी ऐसे ही खतरनाक प्रभाव होते हैं। ” वैज्ञानिकों ने बच्चे की इच्छा रखने वाले दंपतियों से आग्रह किया है कि उन्हें माता- पिता बनने से पहले ही अपनी ” कॉफ़ी ”   पीने की आदत छोड़ देनी चाहिए  ।

coffee-2रिपोर्ट के अनुसार एक जांच दल ने अपनी एक अनुसंधान के लिए गर्भपात का शिकार होने वाले जोड़ों के डेटा का विश्लेषण किया। इसमें अमेरिकी करीब 501 जोड़ों का 2005 से 2009 तक लिया गया डेटा शामिल था। वैज्ञानिकों ने इन जोड़ों के जीवन शैली, सिगरेट, कैफीन पेय की आदत और मल्टी विटामिन के उपयोग सहित अन्य आदतों का विश्लेषण किया।

परिणाम में खुलासा हुआ कि जिन जोड़ों के शरीर में कैफीन की मात्रा अधिक थी उनमें गर्भपात का शिकार होने की दर अन्य जोड़ों से 28 प्रतिशत अधिक थी। इसके अलावा गर्भावस्था में जाने से पहले कैफीन लेने वाले जोड़ों में यह दर बढ़कर 55 फीसदी हो गई। इस के बाद जो महिलाएं गर्भवती होने के बाद भी कैफीन पेय उपयोग करती रहीं उनमें यह दर बेहद खतरनाक सीमा 79 प्रतिशत तक पहुंच गई।

जांच टीम का कहना था कि ” इस अध्ययन से बच्चे के इच्छुक जोड़ों को अत्यंत उपयोगी जानकारी प्रदान किए  रहे हैं जिन पर अमल करके वह गर्भपात हानि होनी की संभावनाओं को कम कर सकते हैं। “

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close