समलैंगिकता कोइ अपराध नहीं: आरएसएस नेता दत्तात्रेय होसबोले

दिल्ली

शायद ऐसा पहली बार हुआ है जब समलैंगिकता को लेकर कोई आरएसएस नेता ने टिप्पणी की है.  आरएसएस के बड़े नेता दत्तात्रेय होसबोले ने समलैंगिकता मुद्दे पर अपनी राय ज़ाहिर करते हुए कहा कि यह अपराध नहीं है.  उन की राय थी कि ऐसे लोगों को सजा नहीं मानसिक इलाज की जरूरत होती है. यह बात उन्हें इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में कहा.

अब टिवटर पर भी उनकी ओर से सफाई आई है. उन्होंने कहा कि इस संबंध के लिए सजा नहीं होनी चाहिए क्योंकि समलैंगिकता समाज के लिए अनैतिक है. हालांकि, दत्तात्रेय ने समलैंगिक शादी का विरोध किया है.

होसबोले ने कहा कि यह लोगों का निजी मामला है. इसलिए आरएसएस को समलैंगिकता पर चर्चा करने की जरूरत नहीं है. समलैंगिकता को जुर्म की तरह नहीं देखना चाहिए और इसके लिए किसी को सजा नहीं मिलनी चाहिए. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इसके चलते दूसरों के जीवन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ना चाहिए.

गौर तलब है कि आईपीसी की धारा 377 के तहत समलैंगिकता अपराध ह. इसके लिए दस साल तक की जेल हो सकती ह. इससे पहले दिल्ली हाईकोर्ट ने ऐसे संबंधों को अपराध की श्रेणी से हटा दिया था लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस फैसले को पलट दिया थ. सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे संबंध को डिक्रिमिनलाइज करने से इनकार कर दिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: