हरी चाय जोड़ों और गठिया के दर्द में भी उपयोगी है, नया अनुसंधान

अमेरिकी वैज्ञानिकों ने हरी चाय में एक रासायनिक मिश्रण (यौगिक) की खोज की है जो गठिया और जोड़ों के दर्द में आराम पहुंचाता है।

गठिया में शरीर की प्राकृतिक रक्षा प्रणाली बिगड़ जाता है जिस से जोड़ों में सूजन आ जाती है, हड्डियां भरभरी हो जाती हैं और किरकिरी हड्डियां (उपास्थि) नष्ट होने लगती है। गठिया का इलाज महंगा है और धैर्य आजमा होता है लेकिन अगर मनियाती प्रणाली को दबाने वाली दवाएं खाई जाएं तो उसके बदन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।Green Tea

वाशिंगटन स्टेट यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने हरी चाय में ईपी गीलवकीटशन 3 गेलीट (ई जी सी जी) मिश्रण की खोज की है, इस यौगिक को जब जोड़ों की सूजन से पीड़ित रोगियों को 10 दिनों तक दिया गया तो उनके पैरों के सूजन दूर हो गई और उनकी तीव्रता कम होने लगी।

हालांकि ई जी सी जी पहले भी सूजन को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता रहा है लेकिन अब साबित हुआ है कि वे ऊतक के विनाश और जलन पैदा करने वाले प्रोटीन टी ए वन को रोकने की क्षमता रखता है। वैज्ञानिकों के अनुसार हरी चाय के टीए के वन को रोकने की खोज के बाद हरी चाय को बतौर दवा इस्तेमाल किया जाएगा। इससे पहले सबज़चाए कैंसर, लीवर रोग, हृदय रोग, सूजन, जलन और कोलेस्ट्रॉल के खिलाफ प्रभावी पाई गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: