गोगोई डर गए हैं या तन गए हैं ? आयोग को चुनौती देते हुए किया प्रेस कांफ्रेंस.

गुवाहाटी

असम विधानसभा के दूसरे और अंतिम चरण के मतदान के बीच ही आज मुख्यमंत्री तरुण गोगोई प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन कर विवादों में घिर गए है। मुख्यमंत्री के प्रेस कांफ्रेंस के खिलाफ प्रदेश बीजेपी ने चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराई थी जिसके बाद आयोग ने प्रेस कांफ्रेंस पर रोक लगा दी थी। लेकिन चुनाव आयोग के निर्देश को ठेंगा दिखाते हुए मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने नियत समय से प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया। जिस के बाद  सियासी हलकों में यह चर्चा ज़ोरों पर है  कि “गोगोई डर गए हैं या तन गए हैं, आखिर आयोग को चुनौती देते हुए क्यों किया प्रेस कांफ्रेंस।

BJP--2-add

उन्होंने कहा कि “चुनाव आयोग से मैंने लिखित निर्देश माँगा था जो मुझे नहीं दिया गया इसलिए मैंने प्रेस कांफ्रेंस किया है। मतदान के दिन चुनाव प्रचार करना मना है पर मैं तो स्पष्टीकरण देने आया हूँ।”

गोगोई ने आयोग को चुनौती देते हुए कहा कि “मैं खुद भी एक वकील हूँ और कानून मैं भी जानता हूँ। किस प्रावधान के तहत मुझे प्रेस कांफ्रेंस करने से रोका गया आयोग इस सवाल का जवाब दे।” उन्होंने चुनाव आयोग पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए कहा कि “बीजेपी नेता हिमंत विश्व शर्मा ने भी कल चुनाव प्रचार किया था लेकिन उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई।”

वहीँ मुख्यमंत्री के इस आचरण से विभिन्न प्रतिक्रियाएं आ रही है। बीजेपी के सीएम पद के उम्मीदवार सर्वानंद सोनोवाल ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि “मुख्यमंत्री तरुण गोगोई समझ गए है कि उनकी पराजय तय है इसलिए उन्होंने चुनाव आयोग के नियमों का उल्लंघन किया है। हम उनके इस कार्य की निंदा करते है। हमें उम्मीद है चुनाव आयोग सही कार्रवाई करेगा।”

इधर वरिष्ठ अधिवक्ता विजन महाजन ने कहा कि मुख्यमंत्री का यह आचरण 1951 के वायोलेशन ऑफ पीपुल्स रिप्रजेंटेशन एक्ट 126 के तहत कानून का उल्लंघन है। इस एक्ट के तहत मतदान के दिन कोई राजनीतिक नेता प्रेस कांफ्रेंस या किसी सभा का आयोजन नहीं कर सकता।

कुल मिलाकर यह साफ नजर आने लगा है कि कांग्रेस को हार का डर सताने लगा है। मुख्यमंत्री तरुण गोगोई भी ऐसे अंदेशों से नहीं बच पाए है। और शायद यही वजह रही है कि चुनाव आयोग के निर्देश के बावजूद मुख्यमंत्री ने प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया। अब देखना यह है कि मुख्यमंत्री के इस आचरण पर चुनाव आयोग क्या कार्रवाई करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: