दलगांव में सिंचाई परियोजना के नाम पर धांधली, उच्च स्तरीय जांच की मांग

 

मंगलदै

सिंचाई विभाग के मंगलदै संमंडल कार्यालय के तहत कई बड़ी परियोजनाओं में व्यापक धांधली और भ्रष्टाचार का मामला सामने आया है| विभागीय अधिकारियों ने जिले की कई परियोजनाओं को धन कमाने का जरिया बना रखा है| इसी का ताजा उदहारण है दलगांव विधानसभा के अंतर्गत सियालमारी गाँव में स्थित आरिमारी वृहद सिंचाई परियोजना|

dalgaon-project-22009 में ही इस परियोजना की नींव रखी गई थी| इस परियोजना का कार्य आरीमारी गाँव के लिए आवंटित हुआ था लेकिन राजनैतिक प्रभाव की वजह से परियोजना का कार्य सियालमारी गाँव में तय किया गया| इसी के चलते भूमि अधिग्रहण विवाद शुरू हो गया और लगभग एक साल तक यह विवाद चलता रहा| 2010 के अंत में परियोजना का निर्माण कार्य शुरू हुआ| तक़रीबन 2 वर्षों तक निर्माण कार्य चलने के बाद 2012 से ही निर्माण कार्य बंद पड़ा है| निर्माण कार्य में जुटे ठेकेदार अपना कैंप यहाँ से उठाकर ले गए जिसके बाद से पिछले 4 सालों में यह स्थान खंडहर में तब्दील हो चुका है|

गाँव के निवासी तथ आवाज फाउंडेशन के संयोजक मजिबुर रहमान ने बताया कि “23 करोड़ की लागत से यह परियोजना शुर की गई थी जो अधूरी रही पर आवंटित राशि का गबन कर ठेकेदार जा चुके है| कृषि प्रधान इलाका होने की वजह से किसानों की दिक्कतों को देखते हुए स्थानीय विधायक मोहम्मद इलियास अली की विशेष तत्परता से यह परियोजना शुरू हुई थी| लेकिन विभागीय अधिकारियों ने परियोजना के नाम पर महज अपनी जेबे ही भरी|”

रहमान ने स्थानीय ग्रामीणों के साथ मिलकर सरकार से परियोजना में हुए घोटाले की उच्च स्तरीय जांच करवाने की मांग की है| साथ ही दोषी को कड़ी सजा दिलाने की मांग करते हुए सरकार से तक़रीबन 20 गांवों के किसानों के हित में परियोजना का निर्माण कार्य पूरा करवाने की अपील की है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: