GUWAHATIVIRAL

असम की बाढ़ पर भी चीन की नजर

गुवाहाटी

सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश के अलावा असम पर भी नजर गड़ाए चीन ने अब यहाँ बाढ़ जैसे अंदरूनी हालत को भी अपने रडार पर ले लिया है| चीन की समाचार एजेंसी शिन्हुवा ने असम के सात जिलों के पांच सौ गांवों के डूबने, ढाई लाख जनता के बाढ़ प्रभावित होने और कम से कम एक के मरने की खबर दे, राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की स्थानीय स्तर पर दी जा रही जानकारियों पर सवालिया निशान लगा दिया है|

समाचार एजेंसी ने रोचक ढंग से राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के किसी अधिकारी का ही हवाला दिया है| प्राधिकरण ने इसके पहले असम के लखीमपुर, जोरहाट, गोलाघाट, कछार, धेमाजी, विश्वनाथ और करीमगंज जिलों में तक़रीबन एक लाख लोगों के बाढ़ से प्रभावित होने की जानकारी अवश्य दी थी|

चीन ने दी हमले की धमकी, कहा सीमा विवाद सुलझाना भारत की ज़िम्मेदारीइसे भी पढ़ें- चीन ने दी हमले की धमकी, कहा सीमा विवाद सुलझाना भारत की ज़िम्मेदारी

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अधिकारी के हवाले से बताया गया है कि उपरोक्त जिलों के तक़रीबन 500 गाँव बाढ़ के पानी में डूब गए हैं| इसके चलते इन गांवों की तक़रीबन 2 लाख 50 हजार आबादी प्रभावित हुई है| उत्तर लखीमपुर में सुबनश्री नदी से एक व्यक्ति का शव बरामद हुआ है| इस बीच बीती रात लखीमपुर जिले में एक छह वर्ष की बच्ची के बाढ़ के पानी में बह जाने की खबर मिली है|

इस बीच राज्य के कछार और करीमगंज जिलों में कुल 66 रहत शिविर संचालित होने का दावा किया गया है| उनमें कुल मिलकर तक़रीबन 14 हजार बाढ़ पीड़ितों के शरण लेने की जानकारी मिली है|

पूर्वोत्तर के 8 मुख्यमंत्रियों को दिल्ली तलबइसे भी पढ़ें- सिक्किम-तिब्बत सीमा में चीन की अतिक्रमण नीति से चिंतित केंद्र , पूर्वोत्तर के 8 मुख्यमंत्रियों को दिल्ली तलब

चीनी समाचार एजेंसी की नजर असम के स्थानीय न्यूज चैनलों पर भी है| उसने उनका हवाला देते हुए कई जगहों पर सड़कों, कलवर्टों और पुलों आदि के क्षतिग्रस्त होने के फुटेज दिखाए जाने का जिक्र किया है| बताया है कि किस प्रकार जुलाई 2012 में असम में बाढ़ से 100 से ज्यादा लोग मारे गए थे और 50 लाख से ज्यादा लोगों को अपने घर-बार छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा था|

इससे साफ है कि भारत के अहम हिस्सों पर नजर गड़ाए चीन ने अपनी समाचार एजेंसियों की भी नजर यहाँ के विभिन्न संवेदनशील मुद्दों पर गड़वा दी है| हमारे कुछ अधिकारीयों तक भी पहुँच बनाने की चीन लगातार कोशिश में जुटा है|

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close