मुख्य मंत्री तरुण गोगोई कोर्ट के समक्ष हुए पेश

गुवाहाटी

बीजेपी नेता हिमंत विश्व शर्मा द्वारा हाल ही में मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के खिलाफ 100 करोड़ का मानहानि मामला दर्ज किया गया था। इस मामले में कोर्ट के नोटिस पर आज मुख्यमंत्री तरुण गोगोई सेशन अदालत पहुंचे। सीएम के साथ उनके कैबिनेट के कई मंत्री उपस्थित थे।

अदालत में मुख्यमंत्री के अधिवक्ता ने अगली सुनवाई के लिए 3 महीने का समय मांगा लेकिन अदालत ने यह कहते हुए कि इससे हिमंत विश्व शर्मा की छवि बिगड़ सकती है, अगली सुनवाई का दिन 8 फरवरी मुकर्रर कर दिया।

बीजेपी नेता हिमंत विश्व शर्मा ने कामरूप सिविल जज की अदालत में यह आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री के खिलाफ मानहानि का दावा किया था कि मुख्यमंत्री गोगोई ने मीडिया में यह कहकर मेरी छवि धूमिल करने की कोशिश की कि मेरे खिलाफ कई आपराधिक मामले दर्ज है जिनमें लुईस बर्गर और सारदा घोटाला शामिल है।

आज अदालत में मुख्यमंत्री गोगोई के कैबिनेट मंत्रियों को न्यायिक व्यवस्था के साथ खिलवाड़ करते भी देखा गया। काफी समय तक गाड़ी का साइरन बजाकर उन्हें अदालत की कार्यवाही में खलल डालते देखा गया। मुख्यमंत्री के काफिले की वजह से गुवाहाटी में ट्रैफिक जाम की समस्या भी पैदा हो गई।

अदालत से बाहर आते हुए गोगोई ने संवाददाताओं को बताया कि कोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख आठ फरवरी निर्धारित की है। हम तभी अपनी आपत्तियां दर्ज करवाएंगे। उन्होंने कहा कि मैं कानून का पालन करने वाला नागरिक हूं।

एक मुख्यमंत्री और अन्य लोगों में कोई अंतर नहीं है। अदालत के समन की तामील करते हुए, मैं आज अदालत में पेश हुआ हूं। मेरे खिलाफ आरोप लगा है। हम वापस लड़ेंगे।

उधर शर्मा के वकील ने कहा कि सारदा मामले से जुड़ी सीबीआई की सूची में शर्मा का नाम सिर्फ एक गवाह के तौर पर दर्ज होने से जुड़े दस्तावेज और लुइस बर्जर मामले में एफबीआई की शिकायत याचिका में हिमंत या असम के किसी भी नेता का जिक्र न होने से जुड़ा अमेरिका की न्यू जर्सी की अदालत का एक दस्तावेज अदालत के समक्ष पेश किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: