बजट 2016: पढ़िए किन किन बातों पर टिकी है आम आदमी की नज़र

नई दिल्लीBUDGET-3jpg

लोकसभा में अगले सोमवार यानी 29 फरवरी को वर्ष 2016-17 का आम बजट पेश किया जाएगा। वित्तमंत्री अरुण जेटली पहले ही बयान दे चुके हैं कि यह लोक लुभावन बजट नहीं होगा। आगामी बजट में कुछ ऐसी नई योजनाओं की भी घोषणा की जा सकती है जिससे सरकार को फायदा पहुंचे।

गुड्स एण्ड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) की राह को आसान करने के लिए सरकार महत्वपूर्ण कदम उठा सकती है, इस सन्दर्भ में कई वस्तुओं पर लग रहे सबसे कम टैक्स को बढ़ाने और एक्साइज ड्यूटी में मिल रही छूट को खत्म करने पर सरकार विचार कर रही है। तो पढ़िए बजट 2016 के किन किन बातों पर टिकी है आम आदमी की नज़र ।

 इनकम टैक्स छूट 

हर नौकरी पेशा और छोटा-मोटा बिजनेस करने वाला आम आदमी इनकम टैक्स में मिलने वाली छूट पर बजट के दौरान नजरें टिकाए रहता है। संभावना है कि इनकम टैक्स छूट की सीमा में इस बार बढ़ौतरी हो सकती है।

 हाऊसिंग लोन पर टैक्स छूट

अधिकतर लोग अपना घर खरीदने के लिए हाऊसिंग लोन लेते हैं। ऐसे में हर किसी को यह उम्मीद रहती है कि हाऊसिंग लोन पर लगने वाले ब्याज पर टैक्स छूट की सीमा बढ़ जाए।

 सोने पर शुल्क

सोने पर किसी भी प्रकार का शुल्क लगने से सोना महंगा या सस्ता होता है, जो हर किसी को प्रभावित करता है। आपको बता दें कि भारत दुनिया में सबसे अधिक सोने का इस्तेमाल करने वाले देशों में से एक है। इस एलिए हर व्यक्ती के नज़र सोने पर लगने वाले टैक्स पर रहती है।

ग्रामीणों को किया मिलेगा

भारत में बहुत सारे गांव हैं और सरकार आए दिन गांवों को नई-नई सुविधाएं देने की बात कहती है। बजट में गांवों को मिलने वाली सुविधाएं भी लोगों का ध्यान बजट की ओर खींचती हैं।

 सस्ती वस्तुएं

बजट में कई तरह के शुल्क की घोषणाएं होती हैं, जिसके चलते हर व्यक्ति यह जानने के लिए उत्सुक रहता है कि इन घोषणाओं से क्या-क्या चीजें सस्ती हुई हैं।

 विदेशी निवेश 

विदेशी निवेश देश में आने से कई सारे फायदे होते हैं तो कई नुकसान भी। एक ओर इंफ्रास्ट्रक्चर को बढ़ावा मिलता है, तो दूसरी ओर बड़े-बड़े मॉल खुलने से छोटे व्यापारियों को नुकसान भी हो सकता है। इन सभी के चलते एफडीआई पर सभी की निगाहें रहती हैं।

 महंगी वस्तुएं 

बजट की घोषणाएं ही कई चीजों पर शुल्क लगाकर उन्हें महंगा भी कर देती हैं, जिसके चलते आम आदमी की जेब पर असर पड़ता है।

 शिक्षा

देश में एक बहुत बड़ा युवा वर्ग है, जो शिक्षा से जुड़ी हर घोषणा में खुद के लिए कुछ खास मिलने की उम्मीद करता है, जैसे नए कॉलेज, नए प्रोजेक्ट आदि।

ढांचागत सुविधाएं

किसी भी देश का विकसित होना उनके इंफ्रास्ट्रक्चर पर निर्भर करता है, ऐसे में इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़ी घोषणाओं पर नजर बनाए रखना आम आदमी के साथ-साथ व्यापारी वर्ग के लिए भी बहुत जरूरी है।

रोजगार एवं नौकरी 

देश में आज भी बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो पढ़े-लिखे होने के बावजूद बेरोजगार हैं। उन सभी को बजट से ऐसी घोषणाओं की उम्मीद रहती है, जो उनके लिए नौकरी के अवसर पैदा कर सकें।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: