अल्पसंख्यक मुद्दे पर हिमंत की टिप्पणी सांप्रदायिक तनाव भड़काएगी – अजमल

गुवाहाटी

अल्पसंख्यक मुद्दे पर डॉ. हिमंत विश्व शर्मा की टिप्पणी राज्य में सांप्रदायिक तनाव भड़का सकती है| यह कहना है बदरुद्दीन अजमल का| हाल ही में मंत्री शर्मा ने हिंदू बांग्लादेशियों पर जो टिप्पणी की उसपर प्रतिक्रिया देते हुए एआईयूडीएफ अध्यक्ष बदरुद्दीन अजमल ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है|

बदरुद्दीन अजमल ने मंत्री शर्मा को निशाने पर लेते हुए कहा, “यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अनुभवी मंत्री शपथ ग्रहण के दौरान संविधान की मर्यादा बनाए रखने की अपनी प्रतिज्ञा भूल रहे है| शर्मा धर्म के आधार पर विभाजन की बात कर रहे है|”

हिंदू बांग्लादेशियों को भारतीय नागरिकता प्रदान करने के मुद्दे पर अब तक खामोश बैठे अजमल ने राज्य में सांप्रदायिक तनाव भड़काने की कोशिश का आरोप लगाते हुए हिमंत विश्व शर्मा और राज्य सरकार को निशाने पर लिया|

उन्होंने कहा, “मंत्री शर्मा ने कल यह कहा था कि हिंदू और मुस्लिम शरणार्थियों के बीच अंतर करना उनकी पार्टी की रणनीति है| उन्होंने असम की जनता से अपना शत्रु खुद चुनने का आह्वान किया है जो राज्य में सांप्रदायिक तनाव को भड़का सकती है|”

बदरुद्दीन अजमल ने बताया कि असम स्टेट जमियत उलेमा-ए-हिंद के 2 सदस्यीय एक प्रतिनिधि दल ने असम सरकार द्वारा चलाए गए बेदखल अभियान और डी-वोटर के मुद्दे पर अल्पसंख्यक मुद्दों के केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी से मुलाक़ात की है| इसी महीने नकवी असम दौरे पर आ सकते है|

डी-वोटर के मुद्दे पर अजमल ने कहा, “ परिवर्तन की आस दिखाकर बीजेपी राज्य में सत्ता पर आई थी और उसने अब तक सिर्फ अल्पसंख्यकों को डी-वोटर बताकर उनके बहिष्कार का ही काम किया है|”

एआईयूडीएफ नागरिक संशोधन विधेयक 2016 का विरोध कर रहा है| अजमल का कहना है कि जिन लोगों को बेदखल अभियान के नाम पर खदेड़ा गया उनमें से कोई भी बंगलादेशी नहीं था|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: