Ayodhya Verdict: अयोध्या पर फैसला Live Updates

फैसले से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और तमाम धार्मिक संगठनों ने फैसले का स्वागत करने और शांति बनाए रखने की अपील की है.


Ayodhya Verdict: अयोध्या पर फैसला Live Updates : 

  • कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि मुस्लिम पक्ष को वैकल्पिक जमीन दी जाए. यानी कोर्ट ने मुस्लिमों को दूसरी जगह जमीन देने का आदेश दिया है.
  • कोर्ट ने फैसले में कहा कि आस्था के आधार पर जमीन का मालिकाना हक नहीं दिया जा सकता. साथ ही कोर्ट ने साफ कहा कि फैसला कानून के आधार पर ही दिया जाएगा.
  • विवादित स्थान पर रामलला का दावा बरकरार – CJI 
  • मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाने की पुख्ता जानकारी नहीं
  • कोर्ट ने ASI रिपोर्ट के आधार पर अपने फैसले में कहा कि मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाने की भी पुख्ता जानकारी नहीं है.
  • मुस्लिम विवादित स्थान पर अपना कब्जा साबित करने में नाकाम – CJI
  • CJI रंजन गोगोई ने कहा- खाली जमीन पर नहीं बनी थी बाबरी मस्जिद
  • CJI रंजन गोगोई ने कहा- बाबर के दौर में बनाई गई मस्जिद
  • निर्मोही अखाड़े का दावा खारिज- सुप्रीम कोर्ट ने निर्मोही अखाड़े का दावा खारिज कर दिया है. कोर्ट ने कहा कि अखाड़े का दावा लिमिटेशन से बाहर है.

 

देश का सबसे बड़ा विवाद “अयोध्या मंदिर-मस्जिद विवाद ” पर सुप्रीम कोर्ट आज अपना फैसला सुनाएगा. इस ऐतिहासिक फैसले के मद्देनजर अयोध्या के चप्पे चप्पे की सुरक्षा बढ़ाई गई है, साथ ही पूरे उत्तर प्रदेश में धारा 144 लागू की गई है.

फैसले से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और तमाम धार्मिक संगठनों ने फैसले का स्वागत करने और शांति बनाए रखने की अपील की है.

अयोध्या विवाद पर 30 सितंबर 2010 को इलाहाबाद हाई कोर्ट का फैसला आया था. इस फैसले में कोर्ट ने 2.77 एकड़ जमीन को सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्माही अखाड़ा और रामलला के बीच बांटने का आदेश दिया था. कोर्ट के इस आदेश को ही सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी, जिस पर लंबी सुनवाई के बाद आज सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की पीठ अपना फैसला सुनाने जा रही है.

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई में पांच जजों की पीठ ने इस मामले की सुनवाई की और अब यही पीठ फैसला सुनाएगी. इस पीठ में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के अलावा जस्टिस एसए बोबड़े, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस अब्दुल नज़ीर शामिल हैं. इन पांचों जजों ने अयोध्या विवाद की सुनवाई की है, जिसके बाद आज इस मामले में फैसला आ रहा है.

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने अयोध्या केस में 40 दिनों तक लगातार सुनवाई की. यह सुनवाई 6 अगस्त से शुरू हुई थी, जिसके बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था.

यूं तो पूरे देश की निगाहें इस फैसले पर टिकी हैं लेकिन सबसे ज्यादा सरगर्मी अगर कहीं देखने को मिल रही है तो वह है अयोध्या। इस वक्त उत्तर प्रदेश के इस शहर में प्रशासन सांसें थामे खड़ा है। सुरक्षा चाक-चौबंद कर दी गई है ताकि किसी भी तरह के हालात से निपटा जा सके। हालांकि, फैसले की सुबह बेहद सामान्य रही .

उधर, प्रशासन ने एहतियात बरतते हुए बाहरी वाहनों को नगर में प्रतिबंधित कर दिया है। प्रमुख रास्तों पर पुलिस की गाड़ियों को छोड़कर सभी चार पहिया वाहनों को प्रतिबंधित कर दिया गया है। राम जन्मभूमि पुलिस स्टेशन और हनुमान गढ़ी मंदिर के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

इस फैसले के मद्देनजर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने एहतियातन पूरे प्रदेश में स्कूल, कॉलेज, एजुकेशनल सेंटर और ट्रेनिंग सेंटर बंद रखने का फैसला लिया है. जानकारी के मुताबिक यूपी में 9 से 11 नवंबर तक स्कूल और कॉलेजों में छुट्टी घोषित की गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: