GUWAHATI

कामख्या स्टेशन से आस्था पर्यटन सर्किट ट्रेन का फ्लैग ऑफ

गुवाहाटी

कामख्या स्टेशन से आज पहली बार भारतीय रेलवे की आस्था पर्यटन सर्किट ट्रेन का रेल राज्य मंत्री राजेन गोहाई ने फ्लैग ऑफ किया| इस मौके पर मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल, विधायक रमेंद्र नारायण कलिता, रंगिया के विधायक भवेष कलिता, एनएफ रेलवे के महाप्रबंधक चाहते राम, एनएफ रेलवे निर्माण संघ के महाप्रबंधन एच.के जग्गी, लमडिंग डिवीज़न के डिवीज़नल रेलवे मैनेजर प्रमोद कुमार जैन और अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे| केंद्र सरकार द्वारा बजट में किए गए वादे को पूरा करते हुए पूसी रेलवे एवं आईआरसीटीसी ने आस्था सर्किट पर्यटन ट्रेन शुरू की है|

इस मौके पर उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए रेल राज्य मंत्री राजेन गोहाई ने कहा कि देश में पहली बार आस्था पर्यटन तीर्थ ट्रेन शुरू की गई है और यह सबकुछ प्रधानमन्त्री नरेंद मोदी के दिशा-निर्देश से और रेल मंत्री सुरेश प्रभु की पहल से ही संभव हो पाया है| रेल राज्य मंत्री ने असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल और विधायकों से आस्था पर्यटन तीर्थ ट्रेन को राज्य में प्रमोट करने का अनुरोध किया|

राजेन गोहाई ने कहा कि पूर्वोत्तर भारत के लिए रेलवे ने कई विकास परियोजनाएं हाथ में ली हैं और जल्द ही गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ के बीच शताब्दी ट्रेन शुरू की जाएगी| उन्होंने कहा कि राज्य के रेलवे ट्रैकों के विद्युतीकरण की परियोजना फ़रवरी महीने के अंत में शुरू की जाएगी| उन्होंने साथ ही गुवाहाटी में यातायात जाम से निजात पाने के लिए कामख्या और न्यू गुवाहाटी के बीच चार लाइन एलिवेटेड कॉरिडोर की अनुमति मिलने की भी बात कही|

मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने राज्य के लोगों की लंबित मांगों को पूरा करने के लिए उठाए गए कदमों के लिए रेल राज्य मंत्री राजेन गोहाई को धन्यवाद दिया| उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में ही राज्य को 25 नई ट्रेने मिली है|

00561 नंबर की यह ट्रेन 17 फरवरी को पहली बार तीर्थ यात्रियों को लेकर कामख्या स्टेशन से पुरी के लिए रवाना हुई जो 23 फरवरी को 10.15 बजे कामाख्या स्टेशन वापस पहुंचेगी| 6 रात और 7 दिन की सफ़र वाली इस विशेष ट्रेन में एक व्यक्ति के लिए मात्र 6,161 रुपया का पैकेज है, जिसमें यात्रियों को भोजन की व्यवस्था के साथ अन्य सुविधाएँ होंगी और यात्रियों के ट्रेन से उतरने के बाद बसों से गंगा सागर मंदिर, बिरला मंदिर, स्वामी नारायण मंदिर, कालीघाट मंदिर, जगन्नाथ मंदिर, कोणार्क मंदिर और लिंगारा मंदिर के दर्शन कराए जाएंगे| कामाख्या, अलीपुरद्वार, न्यू कूचबिहार, न्यू जलपाईगुड़ी, माल्दा, न्यू फरक्का, पाकुर, रामपुरहाट एवं बोलपुर इस ट्रेन के बोर्डिंग स्टेशन होंगे, जबकि डिबोर्डिंग स्टेशन में रामपुरहाट, पाकुर, न्यू फरक्का, माल्दा टाउन, न्यू जलपाईगुड़ी, न्यू कूचबिहार और अलीपुरद्वार शामिल होंगे|

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close