मुख्यमंत्री के आधिकारिक कार्यक्रमों पर असम सरकार का दिशा-निर्देश जारी

गुवाहाटी

असम सरकार ने विभिन्न विभागों तथा एजेंसियों द्वारा आयोजित आधिकारिक कार्यक्रमों में मुख्यमंत्री की उपस्थिति को लेकर ख़ास दिशा-निर्देश जारी किए है| आधिकारिक अधिसूचना में कहा गया है कि मुख्यमंत्री के दौरे में उपायुक्त और पुलिस अधीक्षक को स्वयं उनके आने-जाने और रहने की व्यवस्था देखनी होगी|

मुख्यमंत्री से सहमती, तारीख और समय लेने के बाद संबंधित विभाग या एजेंसी को मुख्यमंत्री कार्यालय के साथ मिलकर हर मिनट का कार्यक्रम तय करना होगा और इसे अनुमोदन के लिए मुख्यमंत्री कार्यालय में जमा करना होगा|

यदि खुले मैदान में कोई कार्यक्रम हो तो लोकनिर्माण विभाग के कार्यकारी अभियंता के निरिक्षण में डायस बनवाया जाए| डायस के सामने वाले कतार में 7 से अधिक सीटे न हो| सीटों के पहले कतार और दूसरे कतार के बीच कम से कम 4 फीट की दूरी हो| डायस की सीढ़ियों पर पूर्ण सुरक्षा जांच हो| मुख्यमंत्री के समय की कीमत को ध्यान में रखते हुए स्वयं उनके अनुमोदन के बगैर किसी भी कार्यक्रम में मुख्यमंत्री एक घंटे से अधिक उपस्थित नहीं रहेंगे|

मुख्यमंत्री के भाषण से पहले दो से अधिक लोग भाषण नहीं दे पाएंगे| सभाओं में सिर्फ शुद्ध पेय जल, चाय/कॉफी या ड्राई फ्रूट के अलावा खाने-पीने की कोई व्यवस्था नहीं होगी| इसके लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग को खाद्य सुरक्षा अधिकारी को ड्यूटी सौंपनी होगी|

रूट मैप भी ऐसे तैयार करना होगा ताकि कम से कम समय में यात्रा की जा सके|

वीवीआईपी के ठहरने के लिए गेस्ट हाउस की अच्छी साफ़-सफाई पर अधिक जोर दिया गया है| पीडब्लूडी (इलेक्ट्रिकल) विभाग को बिना किसी रुकावट के बिजली की व्यवस्था सुनिश्चित करनी होगी| हेलिपैड से जुड़ी खबर पहले ही देनी होगी| साथ ही हेलिपैड में अग्नि शमन और चिकित्सा की सुविधा उपलब्ध करानी होगी|

सभास्थल और जहाँ ठहरने की व्यवस्था हो वहां मेडिकल टीम, अग्नि शामक दस्ता और टेलीफोन या वाई-फाई की व्यवस्था होनी चाहिए| कार्यक्रम के अच्छे कवरेज के लिए मीडिया को उसकी सूचना दी जानी चाहिए| मुख्यमंत्री के कार्यक्रम की सूचना संबंधित जिले के स्थानीय विधायक या सांसद को दी जानी चाहिए|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: