असम में बाढ़ के हालात में कोई सुधार नहीं, और 10 लोगों की मौत

गुवाहाटी

असम में बाढ़ के हालात में कोई सुधार नहीं है| ताजा बाढ़ में और दस लोगों की जान गई है, जिससे इस साल बाढ़ में मरने वालों की संख्या 133 हो गई| राज्य के 25 जिलों में 31.55 लोग बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हैं|

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के मुताबिक धुबड़ी में 3 लोग, मोरीगांव में 2 और धेमाजी, बरपेटा, शोणितपुर, साउथ सालमारा तथा नगांव जिले में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है|

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अनुसार बाढ़ में सबसे अधिक प्रभावित धुबड़ी जिला है जहाँ 8.13 लाख लोगों का जीना दूभर हो गया है| इसके बाद मोरीगांव जिले का नाम आता है जहाँ 5.30 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं|

मौजूदा राज्य के 2,584 गाँव पानी में डूबे हुए हैं जबकि 1.67 लाख हेक्टेयर कृषि भूमि को नुकसान पहुंचा है| प्रबंधन 602 राहत शिविर चला रहा हैं जहाँ 1,01,035 लोग पनाह ले रहे हैं | विभिन्न जिलों में NDRF, SDRF और जिला प्रशासन ने तकरीबन 3,500 लोगों की जान बचाई है|

फिलहाल गुवाहाटी, जोरहाट के निमातीघाट, शोणितपुर के तेजपुर, ग्वालपाड़ा और धुबड़ी शहर में ब्रह्मपुत्र का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है| गोलाघाट की धनशिरी नदी, शोणितपुर की जिया भराली नदी, नगांव की कपिली, बरपेटा की बेकी नदी और करीमगंज की कुशियारा नदी भी उफान पर है|

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की रिपोर्ट के मुताबिक काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान, पोबितोरा वन्य जीव अभ्यारण्य और लाऊखुआ वन्य जीव अभ्यारण्य का बड़ा भू-भाग भी बाढ़ की चपेट में हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: