असम में बाढ़, स्थिति में कोई सुधार नहीं

जोरहाट

असम में बाढ़ की स्थिति में कोई सुधार नहीं हो रहा| आज भी ब्रह्मपुत्र और उसकी उपनदियाँ खतरे के निशान  से ऊपर बह रही है| जोरहाट के तिताबोर में बाढ़ की स्थिति भयावह हो गई है| बेकाजान के तेरीमारी में नदी का तटबंध टूटने से कई परिवार बेघर हो गए है| माजुली में भी बाढ़ की स्थिति जस की तस बनी हुई है जहाँ सेंगेलिबाड़ी, मेरुवाबाड़ी, पोकाजार समेत 50 अन्य गांव पूरी तरह बाढ़ के पानी में डूबे हुए है|

जोरहाट जिला प्रशासन और जलसंसाधन विभाग ने बाढ़ से लोगों को राहत दिलाने के लिए बरसात के अत्याधिक पानी को नालों के जरिए भोगदोई नदी और तराजान तथा तोकलाईजान उपनदियों में छोड़ने का फैसला लिया है| साथ ही अगर बरसात अगले कुछ दिनों तक जारी रही तो शहर के कई इलाकों में राहत दल तैनात करने की बात कही है|

दूसरी तरफ डिमो नदी में आई बाढ़ ने धेमाजी जिले के जोनाई में कई गांवों को जलमग्न कर दिया है| सिलापथार के भी 20 से अधिक गांव बाढ़ में डूबे हुए है| लखीमपुर के नारायणपुर में दिहिरी, पिसोला और दोरपांग नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है| आठोनीबाड़ी, मिसामोरिया, पिसोलपार और अन्य गांव के कई परिवार बाढ़ से बुरी तरह क्षतिग्रस्त है|

लगातार बरसात की वजह से देरगांव शहर भी जलमग्न हो गया है| नालों और खेतों में पानी भर जाने से लोगों को काफी दिक्कतें हो रही है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: