असम – बाढ़ में 15 जिले प्रभावित, अनिश्चितकाल के लिए बंद एनएच-37

डिब्रूगढ़

असम में दूसरे दौर के बाढ़ में 15 जिलों के 4 लाख लोग प्रभावित हुए हैं| बाढ़ की वजह से नगांव जिला प्रशासन ने NH-37 को अनिश्चितकाल के लिए बंद कर दिया है| जखलाबंधा में ऊपरी ओर निचले असम का सड़क संपर्क पूरी तरह टूट गया है|

नगांव के उपायुक्त समशेर सिंह न कहा है कि NH-37 के ऊपर से बाढ़ का पानी बहते हुए देख परिस्थिति सुधरने तक उसे बंद रखने का फैसला लिया गया है |

इधर मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने मुख्य सचिव वीके पीपरसेनिया को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए प्रभावित जिलों के उपायुक्तों से बात करने का निर्देश दिया है, ताकि बाढ़ की भयावहता की जानकारी मिल सके और उचित राहत तथा बचाव कार्य चलाया जा सके|

ताजा बाढ़ में धेमाजी, लखीमपुर, विश्वनाथ, बाग्सा, बरपेटा, बंगाईगाँव, चिरांग, कोकराझाड़, धुबड़ी, जोरहाट, माजुली, शिवसागर, चराईदेउ, डिब्रूगढ़ और तिनसुकिया जिला सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं|

मुख्यमंत्री ने खुद तिनसुकिया और डिब्रूगढ़ के बाढ़ राहत शिविरों का दौरा कर परिस्थिति का जायजा लिया है| उन्होंने बाढ़ पीड़ितों की यथा संभव मदद करने का आश्वासन दिया है| मुख्यमंत्री ने कहा है कि राज्य सरकार तटबंध के निर्माण और बाढ़ पीड़ितों के पुनर्वास समेत लोगों की हर मांग को पूरा करेगी|

मुख्यमंत्री ने रविवार को सदिया के पांचमाइल स्थित भिसमक एलपी स्कूल समेत कुंडिल पुल पर जाकर बाढ़ का निरिक्षण किया| साथ ही भू-कटाव रोकने के लिए जल संसाधन विभाग को त्वरित कदम उठाने का निर्देश दिया|

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी रविवार को मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल से फोन पर ताजा बाढ़ से हुए नुकसान की  जानकारी ली| सोनोवाल ने प्रधानमंत्री को राज्य सरकार द्वारा बाढ़ पीड़ितों के राहत तथा बचाव के लिए उठाए गए कदमों से अवगत कराया| उन्होंने बताया कि प्रभावित सभी जिलों के प्रशासन को राहत कार्य तेज करने के निर्देश दिए गए हैं| प्रधानमंत्री ने भी फोन पर केंद्र कि ओर से हर संभव मदद का आश्वासन दिया है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: