असम: 1.2 लाख D Voters नहीं कर पाएंगे मतदान

असम में 11, 18 और 23 अप्रैल को चुनाव आयोजित होंगे, लेकिन इस चुनाव में 1.2 लाख डी मतदाता  ( D Voters )  मतदान नहीं कर पाएंगे- चुनाव आयोग 


गुवाहाटी 

असम में कुल 1.2 लाख मतदाता आगामी लोकसभा चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग नहीं कर पाएंगे। चुनाव आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि, असम के इन मतदाताओं को ‘डी’ (संदिग्ध) मतदाताओं के रूप में चिह्नित किया गया है।

असम के मुख्य निर्वाचन अधिकारी मुकेश चंद्र साहू ने कहा कि, राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) के पूर्ण मसौदे में जिन लोगों के नाम नहीं हैं लेकिन उनके नाम मतपत्र में हैं तो ऐसे लोग मतदान कर सकते हैं।

जानकारी के अनुसार असम में कुल 40.08 लाख लोग ऐसे हैं जिनके नाम नागरिक पंजी के पूर्ण मसौदे में नहीं है। कुल 3.3 करोड़ लोगों ने इस एनआरसी सूची में अपना नाम दर्ज कराने के लिए आवेदन किया था लेकिन इनमें से 2.9 करोड़ लोगों के नाम ही इस सूची में दर्ज किए जा सके हैं।

बता दें कि, भारत निर्वाचन आयोग ने 1997 में ‘संदिग्ध मतदाता प्रणाली पेश की थी। यह ऐसे लोगों की सूची होती है जो अपनी भारतीय नागरिकता के पक्ष में सबूत नहीं पेश कर पाते। असम के अलावा यह सूची देश के किसी भी हिस्से में नहीं है। असम में ऐसे मतदाताओं को 2014 के आम चुनाव में भी मतदान नहीं करने दिया गया था।

असम में तीन चरणों में 11 अप्रैल, 18 अप्रैल और 23 अप्रैल को 28,143 पोलिंग स्टेशनों पर चुनाव आयोजित होंगे। वहीं, मुख्य निर्वाचन अधिकारी साहू के अनुसार, वर्तमान में हमारे पास अंतिम संशोधन के अनुसार 1.2 लाख ‘डी’ मतदाता हैं।

इनके रोल को लगातार अपडेट किया जा रहा है और नामांकन की अंतिम तिथि पर सूची को अंतिम रूप दिया जाएगा। साहू ने कहा, ‘कोर्ट के मामलों के निपटारे के कारण पिछले संशोधन से ‘डी’ मतदाताओं की वर्तमान संख्या में थोड़ी गिरावट आई है। चुनाव के समय मौजूदा आंकड़ा बदलने की संभावना है।’

सुरक्षा व्यवस्था के बारे में, साहू ने कहा कि केंद्रीय बलों की 33 कंपनियां पहले ही असम पहुंच चुकी हैं और उन्हें विभिन्न स्थानों पर एक विश्वास निर्माण उपाय के रूप में तैनात किया गया है। उन्होंने कहा, “चुनाव के दौरान और केंद्रीय बल राज्य में आएंगे।

हमने अलग-अलग मतदान केंद्रों की संवेदनशीलता को देखते हुए एक विस्तृत सुरक्षा व्यवस्था की है। हमारे राज्य के नोडल पुलिस अधिकारी इस पर गृह मंत्रालय के साथ पहले ही बैठक कर चुके हैं। अंतिम सारांश संशोधन के अनुसार, असम में 14 लोकसभा क्षेत्रों में तीन चरण के चुनावों में कम से कम 7.06 लाख प्रथम टाइमर सहित 2.17 करोड़ से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: