अगप खुद के दम पर लड़ेगी पंचायत चुनाव

गुवाहाटी

गठबंधन सरकार में शामिल असम गण परिषद ने आगामी पंचायत चुनाव खुद के दम पर लड़ने का फैसला किया है| मंगलवार को आमबाड़ी स्थित पार्टी मुख्यालय में अगप की कार्यकारिणी की बैठक में शामिल हुए अधिकाँश सदस्यों का कहना है कि क्षेत्रीयतावाद के अस्तित्व को बनाए रखने से ही अगप का वजूद बना रहेगा| इसलिए पंचायत चुनाव में अगप खुद अपने उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारेगी|

बैठक में लंबे समय तक मंथन के बाद आम सहमती बनी कि आगामी पंचायत चुनाव में पार्टी खुद के दम पर लड़ेगी| पार्टी अध्यक्ष अतुल बोरा की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक ने जमीनी स्तर पर पार्टी की साख को अधिक मजबूत करने की योजना भी बनाई है| इस योजना के तहत स्थानीय इकाईयां अपने-अपने इलाकों में सांगठनिक गतिविधियाँ तेज करेंगी|

पत्रकारों से बातचीत में पार्टी अध्यक्ष अतुल बोरा ने कहा कि राज्य में क्षेत्रीयतावाद पर भरोसा करने वाले तथा इसको बनाए रखने के लिए असम गण परिषद का विकल्प नहीं है| इसलिए इसे अधिक मजबूत करने पर बल दिया गया है|

मंत्रिमंडल विस्तार के संदर्भ में उन्होंने कहा कि अगप से दो विधायकों को मंत्री बनाने की मांग मुख्यमंत्री के समक्ष रखी गई है| पार्टी अभी भी इस मांग पर टिकी हुई है| इधर हिंदू-बांग्लादेशियों को नागरिकता देने के केंद्र तथा राज्य सरकार के फैसले के संदर्भ में बोरा ने कहा कि इस पर अगप अपनी स्थिति पहले ही स्पष्ट कर चुकी है| असम समझौते के आधार पर असम से विदेशियों को खदेड़ना ही होगा तथा धर्म के आधार पर बांग्लादेशी नागरिकों को नागरिकता देने का कोई औचित्य नहीं है|

वहीँ पूर्व मुख्यमंत्री तथा मौजूदा विधायक प्रफुल्ल कुमार महंत ने इस मुद्दे पर साफ शब्दों में कहा कि गठजोड़ में शामिल होने के बावजूद अगप हिंदू-बांग्लादेशियों को नागरिकता देने के सरकार के प्रस्ताव को कतई स्वीकार नहीं करेगी|

पार्टी कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी के उपाध्यक्ष तथा मंत्री केशव महंत, विधायक फणिभूषण चौधरी, रमेंद्र नारायण कलिता आदि भी उपस्थित थे|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *