असम में पतंजली के निर्माण स्थल पर हाथी की मौत, पतंजली के खिलाफ एफआईआर के आदेश

तेजपुर  

पतंजली हर्बल फूड पार्क के निर्माण स्थल पर एक मादा हाथी की गड्ढे में गिरने से हुई मौत के बाद  वन मंत्री प्रमिला रानी ब्रह्म ने एफआईआर दर्ज कराने के आदेश दिए है| तेजपुर में योग गुरु बाबा रामदेव का पतंजली हर्बल फूड पार्क बनाया जा रहा है जहाँ निर्माण कार्य के लिए खोदे गए गड्ढे में गिर जाने से एक हाथी की करूण मौत हो गई| हालांकि हाथी के बच्चे को बाद में जख्मी हालत में गड्ढे से बाहर निकाल लिया गया|

दरअसल यह मादा हाथी झुंड से बाहर निकल आए अपने बच्चे के पीछे चलते हुए निर्माण स्थल पर पहुँच गई थी जहाँ यह हादसा हो गया| 10 फीट गहरे गड्ढे में गिरने की वजह से उसे काफी चोंटे आई| हाथी के बच्चे के पीछे आया एक नर हठी भी इनके साथ गड्ढे में गिर गया था जो सुरक्षित बाहर भी आ गया| लेकिन नर हाथी के मादा हाथी के ऊपर गिरने से मादा को गंभीर चोंटे आई|

19 घंटे तक जिंदगी और मौत से जूझने के बाद मादा हाथी ने दम तोड़ दिया| अपनी मां की लाश से चिपके हुए हाथी के बच्चे को बड़ी मुश्किल से गड्ढे से बाहर लाया गया| बाद में उसे काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान के वन्य जीव पुनर्वास और संरक्षण केंद्र भेज दिया गया|

जंगली हाथियों के संरक्षण में लापरवाही और निर्माण स्थल में खुले हुए गड्ढे रखने के मामले में वन विभाग पहले ही पतंजली मेगा हर्बल एंड फूड पार्क के बिल्डर के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करा चुका है| वन विभाग के वेस्ट सोनितपुर डिवीज़न के अतिरिक्त संरक्षक जासिम अहमद ने बताया कि निर्माण स्थल पर 14 खुले हुए गड्ढे थे जिनमें से कुछ गड्ढे हाथी की मौत और वन मंत्री के दौरे के बाद ढके गए है| ब्रह्म ने बिल्डर को निर्देश दिया है कि 200 एकड़ जमीन को हाथियों के विचरण के लिए छोड़ा जाए|

पतंजली मेगा हर्बल एंड फूड पार्क की नींव हाल ही में मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने रखी थी| वही कांग्रेस का दावा है कि पार्क एलीफैंट कॉरिडोर में बनाया जा रहा है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: