आब्सू का एक दिवसीय विशेष अधिवेशन, जोर शोर से उठी अलग बोड़ोलैंड की मांग  

कोकराझाड़

आब्सू ने आज एक दिवसीय विशेष अधिवेशन का आयोजन कर अलग बोड़ोलैंड राज्य की अपनी लंबित मांग दोहराई है| इस दौरान संगठन के प्रतिनिधियों ने निर्णय लिया कि जब तक सरकार उनकी मांगों पर ध्यान नहीं देती या बोड़ो तथा क्षेत्र के अन्य जनजाति समुदायों की समस्या को सुलझाने के लिए कोई नीति निर्धारित नहीं करती तब तक संगठन अपना विरोध जारी रखेगा|

2 साल 8 महीने देश पर शासन करने के बावजूद मोदी सरकार द्वारा सामाजिक-राजनीतिक मुद्दों पर ध्यान नहीं दिए जाने की बात कहते हुए बोड़ो संगठन के प्रतिनिधियों ने सरकार की निंदा की| साथ ही राज्य सरकार की भूमिका की भी तीखे शब्दों में आलोचना की|

संगठन के प्रतिनिधियों ने अधिवेशन के दौरान नए साल यानी 2017 में श्रृंखलाबद्ध आंदोलन की सूचि तैयार की है जिसकी घोषणा बोड़ो संगठनों और अन्य समुदायों की सहमती के बाद होगी| आब्सू ने फरवरी 2017 में संगठन की स्वर्ण जयंती कार्यक्रम में लोगों से सहयोग की अपील की है| 4 दिवसीय रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ कोकराझाड़ शहर में स्वर्ण जयंती वर्ष मनाया जाएगा| इस दौरान खुली सभाएं भी आयोजित होंगी जिसमें देश के विभिन्न हिस्सों से अतिथियों को आमंत्रित किया जाएगा|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: