ज़रूर पढ़िए: एक भाई का प्रधान मंत्री के नाम खुला पत्र, जो आप को झिंझोर कर रख देगा

तिनसुकिया 

जहाँ केरल में एक लड़की के साथ हुए जघन्य बलात्कार और हत्याकांड की घटना ने देशभर में सुर्खियां बटोरी वहीँ असम में हुए उतने ही जघन्य बलात्कार और हत्याकांड के मामले पर ना तो किसी ने ध्यान दिया ना ही कोई कार्रवाई हुई  है ।

29 अप्रैल 2016 को असम के मार्घेरिटा की रहने वाली 20 वर्षीय एक लड़की  च…. की बलात्कार के बाद हत्या कर दी गई थी लेकिन मामले पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

कल इसी के विरोध में मार्घेरिटा में अखिल असम गोरखा छात्र संघ ने प्रदर्शन कर न्याय की गुहार लगाई लेकिन न्याय अभी भी नहीं मिला है।

आखिरकार हताश होकर च… के भाई राकेश फुरबे शेरपा ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यह खुला पत्र लिखा है जिस का एक एक शब्द आप को भी झिंझोर कर रख देगा |

प्रधान मंत्री के नाम खुला पत्र 

प्रति,
आदर्णीय नरेंद्र मोदी जी ।
प्रधान मंत्री, भारत सरकार ।

विषय :- न्याय के संदर्भ में ।

महोदय,
बड़ी ही दुख के साथ कहना पड़ रहा हैं कि यह तस्वीर हमारे असम राज्य के तिनसुकीया जिले के अंतर्गत मार्घेरिटा महकुमा बोरगोलाई की निवासी च…. की हैं । जो मार्घेरिटा शहर में पार्लर का काम सीख रही थी । जिसकी उम्र करीब २० वर्ष की थी ।बीते २९/०४/१६ की शाम जब मेरी बहन पार्लर का काम समाप्त कर घर वापस लौट रही थी तो आज तक वह घर पहुँची ही नही ।

किसी ने बताया की च….बहन की लाश नदी में तैर रही हैं । अपने परिवार की लाडली हमेशा के लिए अपने परिवार को छोड़कर चली गयी ।

परन्तु, प्रधान मंत्री महोदय जी, यह घटना कोई आम घटना नही, जो कि किसी की प्यार में एक लड़की ने खुदकुशी कर ली ।

असल में हमारी बहन च…., इन्सान के रुप में भेड़ीयो के हवस का शिकार हुई थी । उसे गिद्ध की तरह नोचा गया था । उसे बलात्कार कर नदी में मरने के लिए फेंक दिया गया । उसकी गलती ही क्या थी……..? कि वह एक लड़की हैं ।
अरे उसे तो मालुम भी न था कि आज उसकी जिन्दगी का आखिरी दिन है। उसे क्या पता था कि आज कुछ पाखण्डी उसकी ईज्जत के साथ खेलने वाले हैं ।

बेड़ी ही दुख की बात हैं प्रधान मंत्री महोदय जी, जो घटना निर्भया के साथ हुई थी, वही घटना आज फिर असम के एक युवती के साथ हुई ।

फर्क सिर्फ इतना है कि दिल्ली मे कई सारे न्यूज चैनल  उपलब्ध हैं जैसे AajTak, ABP news, NDTV india, Times NOW, । जिनके चलते सरकार तक बाते पहुँच पाती हैं । अगर कुछ घटनाए होती हैं तो वह बड़ी Issue बन जाती हैं ।राजनैतीक मुद्दा बनाया जाता हैं ।

लेकिन हमारा क्या ????

हमे आपलोगो तक बाते पहुँचाने के लिए क्या करना पड़ेगा ?

क्योंकि चैनल  वालो को असम तथा उत्तरपूर्व की घटनाओ पर दिलचस्पी हैं ही नही और असमीया न्यूज आपलोग समझते नही । करे तो क्या करें यह अभागी जनता ?

जब इस घटना को लेकर लोगो में गुस्सा उमड़ रहा था तो लोग सड़क पर आकर आंदोलन करने लगे । अपने मन की भड़ास निकालने के लिए लोग नारेबाजी करने लगे ।अपने बहन/बेटी न्याय के लिए हाय-हाय, मुर्दाबाद का नारा लगाया गया । तो क्या हुआ. ?

क्या इस  सरकार की कुर्सी चली गयी ?  क्या सरकार डगमगा गयी  ?

पुलिस कहती है कि **अराजकता** फैल गयी हैं । एकबार पुलिस वाले भी आन्दोलन में उतर जाए तो इनका क्या होगा ???

क्या इस वक्त इस तरह की बाते पुलिसवालों द्वारा कहना उचित हैं ?

**अराजकता** कौन फैला रहा हैं? साधारण लोग? जिन्हे दो वक्त की रोटी के लिए कितने मेहनत करने पड़ते हैं । क्या **अराजकता** फैलाने के लिए उनके पास समय हैं?

प्रधान मंत्री महोदय जी,

ईन दो साल की कार्यकाल में आप संसार के विभिन्न देशो में घुमकर, उन देशो से नयी-नयी चीजें भारत में ला रहे हैं । कभी MODERN INDIA तो कभी MAKE IN INDIA कभी Infrastructure की बातें करते हैं तो कभी DIGITAL INDIA की बातें करते हैं । कभी *प्रधान मंत्री सड़क योजना* *प्रधान मंत्री बीमा योजना* कभी *अटल पेंशन  योजना* । ये सभी अच्छी बातें हैं । हम भी इन सभी योजनाओ का समर्थन करतें हैं ।

परन्तु, आपने कभी उन देशों में बलात्कारीयों पर किस तरह की सजा दी जाती हैं, इस विषय में जान्ने की कोशिश की ? कभी आपने विदेशो के कानून व्यवस्था पर ध्यान दिए ? 

बाहरी मुल्क पर महिलाओ के सुरक्षा के प्रति किस तरह के नियम हैं ?

यदि महिलाओ/युवतियों पर कोई गन्दी नजर से देखता हैं तो उसपर किस तरह की कार्यवाही की जाती हैं, इस विषय पर क्या आपने अध्यन किये?

मुझे लगता हैं २ वर्ष की कार्यकाल में विदेश जाकर महिलाओ के सुरक्षा के प्रति आपने न तो किसी भी प्रकार की अध्ययन किये और ना ही इसमे आपको कोई रुचि है ।

काश आपकी भी ३/४ बेटियाँ होती !! तो सायद ईस विषय पर आप ध्यान देते ।  महिलाओ के सुरक्षा के प्रति कड़े से कड़े नियम बनाते ।

अगर इसी  तरह रहा तो देखना कुछ दिन बाद आपके अपने Party के Rallyओ में एक भी महिला समर्थक नही मिलेंगे और तब ये मत कहियेगा कि RAKESH FURBA SHERPA ने आपको सुचित नही किया था ।

आशा करता हुँ हमारी प्यारी सी बहन च…. के हत्यारों/बलात्कारियो को जल्द कड़ी सी कड़ी सजा मिलें ।

॥ ॐ शान्ति शान्ति ॥
॥ च** बहन अमर रहे ॥

[Letter is originally posted at: http://bit.ly/1SQGbaM]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: