भारत में भी रिलीज होगी फिल्म 1962:The Country Land

गुवाहाटी 

असमिया निर्देशक द्वारा निर्देशित 1962: My Country Land नामक कैन्स फिल्म महोत्सव में प्रदर्शित अंग्रेजी फिल्म जल्द ही भारत में रिलीज होगी। फिल्म की पटकथा 1962 को अरुणाचल प्रदेश में हुए भारत-चीन युद्ध पर आधारित है।

उस समय के अरुणाचल में भारत-चीन युद्ध की याद ताजा करेंगे तो कुछ धुंधली सी तस्वीरों में आपको नजर आएगा कि किस तरह यहाँ के स्थानीय लोगों ने चीनी सेना से भयभीत भारतीय सेना को स्थानीय लिबास में यहाँ से भागने में मदद की थी। शत्रु होने के बावजूद चीनी सेना ने यहाँ के निवासियों को खूबसूरत रेशम, चीनी मिट्टी के बर्तन दिए और प्यार से पेश आए।

कान फिल्म महोत्सव में प्रदर्शित हुआ, 1962 : माई कंट्री लैंड

इन्हीं कुछ यादों को संजोकर फिल्म निर्देशक चाउ पार्थ बोरगोहाईं ने यह फिल्म बनाई है। गैर प्रतियोगिता श्रेणी में कैंन्स फिल्म महोत्सव में यह फिल्म दिखाई गई। फिल्म की निर्माता मार्बोम माई और उनकी एनजीओ लिविंग ड्रीम्स है। इस फिल्म में संगीत दिया है गुरु रॉबेन मशंगवा और शंकर शंकिनी ने। अरुणाचल प्रदेश में जन्में और वही पले-बढ़े बोरगोहाईं ने 2.6 करोड़ के बजट के साथ युद्ध पर आधारित इस फिल्म का निर्माण करने की योजना बनाई।

फिल्म की कहानी लुटिया नामक एक लांस नायक के इर्द-गिर्द घूमती है जिसे तत्कालीन NEFA के भारत-चीन सीमा में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल में भेजा जाता है। वहां वह अपने साथी ग्यात्सो के साथ जाता है और रास्ता भटककर नो मैंस लैंड पहुँच जाता है जहाँ उसकी मुलाकात गांव के मुखिया की बेटी याका और चीनी व्यापारी छान से होती है। छान और लुटिया के बीच अपने-अपने देश के लिए वह जमीन जीतने के लिए लड़ाई होती है। इसी बीच उन्हें एक ऐसा विद्रोही मिलता है जो यह नहीं चाहता कि भारत या चीन में से जमीन का टुकड़ा किसी के भी हाथ में जाए। आखिरकार तीनों में जंग छिड़ जाती है। युद्ध छिड़ने के साथ ही फिल्म समाप्ति की ओर बढ़ती है और लुटिया को वापस लौटना पड़ता है। लेकिन जाने से पहले वह याका से उसके लिए वापस आने का वादा करता है जो पूरा नहीं हो पाता।

कान फिल्म महोत्सव में प्रदर्शित हुआ, 1962 : माई कंट्री लैंड

बोरगोहाईं का कहना है कि इस फिल्म को बनाने के लिए उन्होंने थोड़ा बहुत शोध किया है लेकिन इसी दौरान उनकी मुलाकात अरुणाचल में रहने वाली एक जनजाति से हुई जो 2002 में भारतीय नागरिक बने है। उनसे मिलकर उन्हें फिल्म के लिए काफी मार्गदर्शन मिला।

फिल्म की शूटिंग अरुणाचल प्रदेश के तवांग और मेचुका, मेघालय के सोहरा और असम के गुवाहाटी शहर में हुई है। फिल्म की मुख्य भूमिका में है अहम शर्मा, डेनियल हान, लहकपा लेपचा, केथोलेनो कैंसे और रिकेन गोमला। अब भारत में भी इस फिल्म को रिलीज करने की कोशिशें जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: